आंगनवाड़ियों में खुशियां बिखेरने, सीएम शिवराज निकलेंगे ठेला लेकर, जुटाएंगे खिलौने 

मुख्यमंत्री ने कहा कि आंगनवाड़ी केंद्रों में आने वाले बच्चे जीवन में अभाव महसूस न करें, इसके लिए सरकार और समाज को संयुक्त प्रयास करना होंगे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) मंगलवार को राजधानी की सड़कों पर हाथ ठेला लेकर निकलेंगे और समाज के लोगों से आंगनवाड़ी (MP Anganwadi) के बच्चों को लिए खिलौने और अन्य आवश्यक सामग्री जुटाएंगे। उन्होंने अपील की है कि जिन बच्चों के पास खेलने-कूदने या पढ़ने की सामग्री नहीं हैं, जो बच्चे अंडरवेट हैं इनके प्रति सरकार के साथ समाज भी आगे बढ़कर आये।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हाथ ठेला लेकर भोपाल के अशोका गार्डन क्षेत्र से सामग्री एकत्रीकरण के अभियान का शुभारंभ करेंगे। अभियान की रूपरेखा पर चर्चा के लिए मुख्यमंत्री ने आज मंत्रालय में बैठक बुलाई। सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में “एडाप्ट एन आंगनवाड़ी” अभियान संचालित है। इस अभियान को गति प्रदान करने के लिए वे स्वयं हाथ ठेला लेकर जनता से आहवान करेंगे कि आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए खिलौने एवं स्टेशनरी सामग्री प्रदान करें।

ये भी पढ़ें – MP: सतना में दिखा तेज आंधी का असर, आधे घंटे तक हवा में लटकता रहा रोपवे, देखें वीडियो

उन्होंने बताया कि अनेक स्थान पर लोगों ने वाटर कूलर और फर्नीचर भी आंगनवाड़ी केंद्रों को दिये हैं। इन केंद्रों में आने वाले बच्चों के खान-पान में पौष्टिक सामग्री शामिल करने अनेक नागरिक आगे आए हैं। अभियान को जनता के सहयोग से ही बेहतर ढंग से संचालित किया जा सकता है। यदि स्वैच्छिक सहयोग मिलता है तो इन केंद्रों की उपयोगिता बढ़ जाएगी और ऐसे बच्चे भी आंगनवाड़ी केंद्रों तक पहुंचेंगे जो अभी नहीं आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें – भोपाल के करोंद में अतिक्रमण हटाने के दौरान कांग्रेस नेता का जमकर हंगामा

सीएम ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी किसान भाइयों ने आंगनवाड़ी केंद्रों के लिए अनाज उपलब्ध करवाया है। एक मटके में अन्य खाद्य सामग्री प्रदान करने में भी सहयोग मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में बच्चों को स्कूल बेग, ड्राइंग शीट, कलर्स के साथ ही कॉमिक्स और अन्य शिक्षाप्रद साहित्य उपलब्ध हो, इसके लिए जन-सहयोग आवश्यक है।

ये भी पढ़ें – क्या सफेद ब्रेड आपको बहुत अच्छी लगती है? तो हो जाइये सावधान

मुख्यमंत्री ने कहा कि आंगनवाड़ी केंद्रों में आने वाले बच्चे जीवन में अभाव महसूस न करें, इसके लिए सरकार और समाज को संयुक्त प्रयास करना होंगे। समाज के विभिन्न वर्ग सहयोग करेंगे। इनमें स्वैच्छिक संगठनों के सदस्य, अधिकारी-कर्मचारी, व्यापारी, जन-प्रतिनिधि और रहवासी संघ के पदाधिकारी भी शामिल हैं।