मंत्री की आंख की किरकिरी बने तहसीलदार का तबादला

transfer-of-tahsildar-sehore-sudhir-kushwah--

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक महीने के लिए तबादलों से हटी रोक 5 जुलाई को ख़त्म हो गई| अंतिम तारीख में कई विभागों में तबादले किये गए हैं| इस दौरान राजस्व विभाग ने तहसीलदारों के तबादले किये हैं और पिछले दिनों विभागीय मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत द्वारा सस्पेंड करने के आदेश देने के बाद सुर्ख़ियों में आये सीहोर तहसील कार्यालय के तहसीलदार सुधीर कुशवाह का भी तबादला कर दिया है, उन्हें गुना भेजा गया है| ख़ास बात यह है कि विभागीय मंत्री ने कुशवाह को निलंबित करने के आदेश दिए थे, लेकिन उनका निलंबन नहीं करा सके| आख़िरकार उनका तबादला ही कर दिया गया|

दरअसल पिछले दिनों राजस्व मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने सीहोर तहसील कार्यालय का औचक निरीक्षण किया, इस दौरान मंत्री अपने ओएसडी के साथ तहसीलदार कोर्ट में जाकर बैठ गए। जिसको लेकर मंत्री और उनके ओएसडी की आलोचना भी हुई। इस दौरान उन्होंने किसानों से जुड़े कार्यों में लेटलतीफी और लापरवाही की वजह से तहसीलदार को निलंबित करने के निर्देश दे दिया। लेकिन इस कार्रवाई का विरोध हो गया और मंत्री पर ही नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगा|   तहसीदार सुधीर कुशवाह को निलंबित करने के निर्देश जारी करने के विरोध में तहसीलदार व नायब तहसीलदार संघ ने हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी थी। इसके बाद सरकार बैकपुट पर आ गईं। यही वजह मानी जा रही है कि  तहसीलदार व नायब तहसीलदारों की हड़ताल पर जाने की चेतावनी के बाद मंत्री के निर्देश पर कुशवाह को निलंबित नहीं किया जा सका और अब उनका तबादला करना पड़ा|