भोपाल। राजधानी भोपाल की बैरसिया तहसील में पदस्थ दो महिला पटवारियों को सीधे मुख्यमंत्री कमलनाथ से तबादले की गुहार लगाने पर निलंबन की गाज झेलनी पड़ी है। दोनों ने बैरसिया से भोपाल या कोलार तहसील में स्थानांतरण की मांग की थी। मुख्यमंत्री सचिवालय के निर्देश पर कलेक्टर ने दोनों को निलंबित कर दिया।

दरअसल, दोनों महिला पटवारी ऐसे समय में छुट्टी पर गईं थी, जब  प्राकृतिक आपदा से नुकसान के सर्वे में पटवारियों को मैंदान में जाना था। पटवारियों के इस कृत्य से सीएम सचिवालय बेहद नाराज है। दोनों महिला पटवारी छुट्टी पर थीं और इसी दौरान तबादले के लिए गुहार लगाने मुख्यमंत्री के पास पहुंचीं थी। इसके बाद मुख्यमंत्री निवास में पदस्थ उप सचिव हृदयेश श्रीवास्तव ने भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े को दोनों पटवारियों पर कार्रवाई करने के लिए चिठ्ठी लिखी थी। इस चिठ्ठी के बाद भोपाल कलेक्टर ने दोनों पटवारियों को सीधे सस्पेंड कर दिया। महिला पटवारियों का कहना है कि सितंबर महीने में हम अवकाश पर थे, इसलिए मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे थे। क्षमा बिल्लौरे व प्रज्ञा मालवीय विगत कुछ सालों से बैरसिया में पदस्थ है। दोनों ने बैरसिया से भोपाल या कोलार तहसील में स्थानांतरण के लिए मुख्यमंत्री से मुलाकात कर आवेदन दिया था, लेकिन मुख्यमंत्री सचिवालय के निर्देश पर कलेक्टर ने दोनों को निलंबित कर दिया।

इधर, कलेक्टर भोपाल का कहना है कि उन्होंने मुख्यमंत्री निवास से प्राप्त निर्देशों के आधार पर यह कार्रवाई की है। हालांकि दोनों पटवारियों को कारण बताओ नोटिस भी नहीं दिया गया और सीधे निलंबन की कार्रवाई कर दी गई। निलंबित रहने तक इन्हें जीवन निर्वाह भत्ता दिया जाएगा। कलेक्टर ने यह कार्रवाई मप्र आचार नियम 1965 के नियम 1 के विपरीत आचरण किए जाने के कारण शासकीय सेवा नियम 1956(2) के तहत की है। निलंबन अवधि के दौरान दोनों को बैरसिया तहसील मुख्यालय में अटैच कर दिया गया है।