उमा भारती ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत, साध्वी प्रज्ञा ने ईश्वर को दिया धन्यवाद

भोपाल।

 सुप्रीम कोर्ट ने देश के सबसे पुराने केस अयोध्या विवाद पर अपना ऐतिहासिल फैसला सुना दिया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में संवैधानिक पीठ ने फैसला सुनाते हुए निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड का दावा खारिज कर दिया है। वही अयोध्या में रामजन्मभूमि न्यास को विवादित जमीन दी गई है. साथ ही मुस्लिम पक्ष को अलग जगह जमीन देने का आदेश दिया गया है।  अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला के बाद एक के बाद एक नेताओं की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। अब बीजेपी की दिग्गज नेत्री उमा भारती और भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा का बयान सामने आया है । दोनों बीजेपी नेत्रियों ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। 

उमा भारती ने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट के इस दिव्य फैसले का स्वागत है। माननीय अशोक सिंघल जी को स्मरण करते हुए उनको शत्-शत् नमन। वह सब, जिन्होंने इस कार्य के लिए अपने जीवन की आहूति दे दी उन्हें श्रद्धांजलि एवं आडवाणी जी का अभिनंदन जिनके नेतृत्व में हम सब लोगों ने इस महान कार्य के लिए अपना सर्वस्व दांव पर लगा दिया था। वही सुप्रीम कोर्ट का राम मंदिर पर फैसला आने के बाद सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर अपने निवास के पास रिवेरा टाउन स्थित हनुमान मंदिर पहुंची और माथा टेका।साध्वी अपने घर से राम भजन और हनुमान चालीसा गाते हुए मंदिर गईं। मंदिर में उन्होंने पूजा पाठ की। साध्वी ने कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद ईश्वर का धन्यवाद किया।

 साध्वी ने ट्वीट कर कहा है कि सभी न्यायाधीशों का खूब-खूब अभिनंदन है. उन्होंने समस्त राष्ट्र को ‘जय श्री राम’ भी बोला है।

बता दे कि अयोध्या मामले में अब तक का सबसे बड़ा फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विवादित जमीन रामलला विराजमान को दी जाए। सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाया जाए साथ ही केंद्र सरकार तीन महीने में इसकी योजना बनाए। वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन देने का भी फैसला किया गया है। सीजेआई ने कहा कि ये पांच एकड़ जमीन या तो अधिग्रहित जमीन से दी जाए या फिर अयोध्या में कहीं भी दी जाए। वहीं 2.77 एकड़ विवादित जमीन पर सरकार का अधिकार रहेगा।