नहीं थमा पठान को लेकर मचा बवाल, शाहरुख के जवाब के बाद आईएएस नियाज़ का ट्वीट

Bhopal Pathan Movie Controversy :मध्यप्रदेश से शुरू हुई पठान मूवी कॉन्ट्रोवर्सी की आंच धीरे धीरे देश के अन्य हिस्सों में भी धधकने लगी है, इस पूरे मामलें पर अब तक कुछ न बोलने वाले अभिनेता शाहरुख खान ने चुप्पी तोड़ी है। अभिनेता शाहरुख खान ने गुरुवार को कोलकाता इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में कहा- दुनिया चाहे कुछ भी कर ले। मैं और आप जितने भी पॉजिटिव लोग हैं… सब जिंदा हैं! शाहरुख का इशारा उन लोगों के लिए था जो सोशल मीडिया पर फिल्म को ट्रोल कर रहे हैं। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चेतावनी देते हुए साफ कर दिया था कि फिल्म में वेशभूषा को ठीक करें अन्यथा मध्यप्रदेश में इस फिल्म को अनुमति दी जाए या न दी जाए, यह विचारणीय प्रश्न होगा। वही इस फिल्म पर प्रदेश के जानेमाने आईएएस अधिकारी नियाज़ खान ने ट्वीट किया है उन्होंने कहा – शाहरुख खान महान भारतीय संस्कृति का सम्मान करना सीखें, पैसे का नहीं। नग्नता अच्छी नहीं है।

और क्या कहा शाहरुख खान ने 

आज के वक्त में सोशल मीडिया द्वारा एक कलेक्टिव नैरेटिव दिया जाता है। मैंने कहीं पढ़ा था, निगेटिविटी सोशल मीडिया के यूज को बढ़ाती है। इसके अलावा इसकी कॉमर्शियल वैल्यू भी बढ़ती है। इस तरह की कहानियां हमें भटकाने और बांटने का काम करती हैं। शाहरुख ने कहा- चाहे कुछ भी हो, हमें पॉजिटिव रहना है। नकारात्मक सोच से दूर रहना है। शाहरुख के इतना बोलते ही नेताजी इंडोर स्टेडियम तालियों से गूंज उठा। समारोह में फिल्म इंडस्ट्री के जानें मानें सितारे मौजूद थे।

आईएएस नियाज़ खान का ट्वीट 

वही मध्यप्रदेश के चर्चित आईएएस अधिकारी नियाज खान ने शाहरुख खान के इस जवाब पर ट्वीट किया है उन्होंने लिखा है कि आप अपने स्टैंड को कितना भी सही ठहरा लें, यह काम नहीं करेगा। महान भारतीय संस्कृति का सम्मान करना सीखें, पैसे का नहीं। नग्नता अच्छी नहीं है।

https://twitter.com/saifasa/status/1603419841679233024

 

वही अभिनेत्री स्वरा भासकर ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट किया है।

क्या कहा था गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि गाने में प्रयुक्त गई वेशभूषा प्रथमदृष्टया बेहद आपत्तिजनक है। साफ दिख रहा है कि दूषित मानसिकता के कारण फिल्माया गया यह गाना है। वैसे भी दीपिका पादुकोण जी टुकड़े-टुकड़े गैंग की समर्थक रही है जेएनयू वाले मामले में। इस वजह से मैं यह निवेदन करूंगा कि इसके दृश्यों को ठीक करें। वेशभूषा को ठीक करें अन्यथा मध्यप्रदेश में इस फिल्म को अनुमति दी जाए या न दी जाए, यह विचारणीय प्रश्न होगा।