MP के दस जिलों में पाले से फसल बर्बाद, किसान परेशान, सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान

Waste-crops-in-ten-districts-of-MP

भोपाल/इंदौर।

उत्तर से आ रही बर्फीली हवा के कारण प्रदेश के ज्यादातर शहर शीतलहर की चपेट में आ गए हैं।तापमान गिरने से पाला पड़ने लगा है, जिसका असर फसलों पर पड़ रहा है।मौसम की मार से अबतक हजारों एकड़ खेतों में खड़ी फसले तबाह हो चुकी है। इसका सबसे ज्यादा असर मालवा-निमाड़ में देखने को मिला है।अनुमान है कि लगभग पांच हजार हेक्टेयर की फसल खराब हो गई है। फसल बर्बादी ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरे उभार दी है। किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की है। वही पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी इस पर चिंता जाहिर करते हुए सरकार से किसानों को राहत राशि देने की मांग की है।वही कृषि मंत्री ने सिंह की बातों को गंभीरता से लेते ुहए मुआवजे का ऐलान किया है।

दरअसल, प्रदेश में पड़ी रही कड़ाके की ठंड ने इंदौर सहित 10 जिलों को अपनी चपेट में ले लिया है, यहां चना, अरहर, मसूर, सरसों, आलू और बैगन आदि पांच हजार हेक्टेयर की फसल खराब हो गई है। शीतलहर का ज्यादा असर मटर, आलू और चने, टमाटर और अफीम, कपास पर हुआ है। मटर के दाने गिर गए है, आलू के पत्ते काले पड़ गए है, कई खेतों में बर्फ जम गई, टमाटर बर्फ जमने से पत्थर हो गए है।  पहले से ही कर्ज और सूखे की मार झेल रहे किसानों पर फसल बर्बाद होने से दोहरी मार पड़ गई है।  पिछले एक सप्ताह में जिस तरह तापमान गिरा है, उससे रबी फसलें प्रभावित हो रही हैं। लगातार हो रहे फसलों के नुकसान से किसानों के चेहरों पर मायूसी छा गई है। किसानों ने सरकार से सर्वे करवाकर मुआवजे की मांग की है।

वही मौसम को देखते हुए कृषि विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए 28 लाख किसानों को एसएमएस भेजकर बचाव के उपाय भी सुझाए हैं। मौसम वैज्ञानिकों की माने तो अगले एक-दो दिन मौसम का मिजाज ऐसा ही रहेगा।एक जनवरी को हिमालय क्षेत्र में एक पश्चिमी विक्षोभ के पहुंचने के संकेत मिले हैं। अगले 24 घंटों के दौरान उज्जैन, रीवा, जबलपुर, सागर संभाग के जिलों में शीतलहर चलने की संभावना है।ऐसे में फिर फसलों को भारी नुकसान हो सकता है।


मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने पाला से प्रभावित हुई फसल के विषय को संवेदनशीलता से लिया है ।उन्होंने विभागीय अधिकारियों से इस विषय में विस्तार से जानकारी ली है। मुख्यमंत्री ने इस पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि किसान भाई धैर्य रखें सरकार आप के साथ है।


किसानों को चिंता की जरुरत नही- कृषि मंत्री सचिन यादव 

अरुण यादव के भाई और कमलनाथ सरकार में कृषि मंत्री सचिव यादव ने मुआवजे देने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि कड़ाके की ठंड से फसलें खराब होने की खबरें प्रदेश भर से प्राप्त हो रही है, अधिकारियों से इस संबंध में फ़ोन पर चर्चा कर निर्देशित किया है कि तत्काल सर्वे कराकर रिपोर्ट दें । किसान भाइयों अब आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं है आपका जो भी नुकसान होगा उसका मुआवजा कांग्रेस सरकार देगी ।


सर्वे कराकर किसानों को राहत दे सरकार-दिग्विजय

किसानों की फसल बर्बादी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने चिंता जाहिर की है। दिग्विजय ने ट्वीट कर सरकार से सर्वे करवाकर किसानों को उचित मुआवजा देने की मांग की है। दिग्विजय ने लिखा है कि  ”मप्र में कड़ाके की ठंड से पाला पड़ने से फ़सल को काफ़ी नुकसान हुआ है राज्य सरकार को तत्काल सर्वे करवा कर किसानों को राहत देनी चाहिये। कॉंग्रेस पार्टी विधायकों व मंत्री गणों  को अपने क्षेत्रों में तत्काल जा कर फ़सल का जायज़ा लेना चाहिए।”

इधर प्रमुख सचिव राजेश राजोरा ने लिखा पत्र
वही प्रमुख सचिव राजेश राजौरा ने भी फसल की बर्बादी पर चिंता जाहिर करते हुए सभी कलेक्टरों को पत्र लिख सर्वे करवाकर रिपोर्ट भेजने को कहा है।
MP के दस जिलों में पाले से फसल बर्बाद, किसान परेशान, सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान