स्वच्छता की तर्ज पर अब पानी बचाने होगी रैकिंग, यह शहर होंगे शामिल

water-power-will-be-ranked-in-major-cities-of-country

भोपाल। जिस तरह से केंद्र सरकार ने शहरों को साफ करने के लिए स्वच्छता सर्वेक्षण चलाया है, उसी तर्ज पर अब पानी बचाने को लेकर भी शहरों की रैकिंग की जाएगी। जल्द ही केंद्रीय जल मंत्रालय की टीम शहरों का भ्रमण करेगी। यह शहरों में जल स्त्रोतों के पुनरोद्धार, वाटर हार्वेस्टिंग के इंतजाम, पौधरोपण और ट्रीट किए गए पानी के पुन: उपयोग जैसे कार्यों पर शहरों की मार्किंग करेगा। पानी बचाने से लेकर पानी की बेहतर प्रबंधन के आधार पर शहरों को रैकिंंग दी जाएगी। 

जल शक्ति अभियान के तहत प्रथम चरण में सर्वे 1 अगस्त से 15 सितंबर के बीच और द्वितीय चरण में 1 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच किया जाएगा। इसमें देश के 200 जिलों के 496 शहरी व नगरीय निकाय शामिल होंगे। इसमें मप्र के 11 जिले और उनके 29 नगरीय निकाय शामिल होंगे। हाल ही में शहरों में पानी बचाने की रैकिंग के लिए केंद्रीय जल आयोग की टीम इंदौर का दौर कर चुकी है। टीम ने शहर में वाटर हार्वेस्टिंग, पौधरोपण, पानी के पुन: उपयोग जैसे कार्यों का निरीक्षण किया। 


ये शहर होंगे शामिल

मप्र के नगरीय निकायों में नीमच, मंदसौर, रतलाम, उज्जैन, आगर-मालवा, शाजापुर, देवास, धार, इंदौर, बड़वानी व राजगढ़ को शामिल किया गया है। इस सर्वे के अंतर्गत इंदौर में करीब 50 हजार घरों में वाटर हार्वेस्टिंग का इंतजाम किया जाना है। इन शहरों में पानी का सर्वे किया जाएगा।