weather-update-of-madhya-pradesh-chance-of-rain--

भोपाल। मध्य प्रदेश में मौसम ने एक बार फिर किसानों की चिंता बढ़ा दी है| शनिवार और रविवार रात कई जगह तेज बारिश और ओले गिरे हैं, जिनसे फसलों को नुक्सान हुआ है| होशंगाबाद, बैतूल और हरदा जिले में शनिवार रात तेज बारिश हुई और कई जगह ओले भी गिरे। वहीं रविवार को छिंदवाड़ा, ग्वालियर, चंबल, होशंगाबाद उमरिया समेत कई इलाकों में बारिश के साथ ओले गिरे हैं| होशंगाबाद में तेज हवा चलने से फसलाें काे नुकसान हुआ है। गेहूं की फसलें आड़ी हाे गई हैं। पंचमणी में  रात लगभग 3:00 बजे तेज आंधी के साथ आंवले के आकार बराबर ओले गिरे। कई जगह बिजली पोल टूट गए और पेड़ उखाड़ गए। इसके अलावा प्रदेश के कई इलाकों में हलकी बूंदाबांदी हुई है| मौसम विभाग के अनुसार, आगामी 24 घंटे में भोपाल, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, विदिशा, रायसेन और राजगढ़ जिले में बारिश या गरज चतक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। 

अगले दो से तीन दिनों तक मौसम इसी तरह बना रहेगा। इससे हवा में एक बार फिर ठंडक बढ़ने के आसार हैं। इधर, राजधानी में सोमवार को न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से 0.7 डिग्री अधिक रहा। हालांकि, रविवार शाम को हुई बूंदाबांदी से मौसम में थोड़ी ठंडक महसूस हुई। सोमवार को शहर का अधिकतम तापमान 30.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से 1.1 डिग्री कम रहा। 


इन जिलों में हो सकती है बारिश 

सोमवार को मौसम के तेवर रविवार जैसा ही रहे। सुबह से ही बादल छाए हैं, दोपहर बाद हल्की धूप खिल रही है। शाम पांच बजे के बाद ये घने हो गए। कुछ इलाकों में मामूली बूंदें भी गिरीं। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि मंगलवार को बारिश या गरज चमक के साथ बारिश होने से रात में ठंडक और बढ़ सकती है। तीन दिन तक यही हाल रहेगा। इसके बाद भी एक पखवाड़े तक तापमान में उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी रहने की संभावना है।  मौसम विभाग के अनुसार, आगामी 24 घंटे में भोपाल, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर, विदिशा, रायसेन और राजगढ़ जिले में बारिश या गरज चतक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। मौसम वैज्ञानियों ने बताया कि मंगलवार को बारिश या गरज-चमक के साथ बारिश होने से रात में ठंडक और बढ़ सकती है। 

दो साल के मुकाबले सबसे ठंडा रहेगा मार्च 

पिछले दो साल के मुकाबले मार्च का महीना इस बार ज्यादा ठंडा रह सकता है |   फरवरी 2018 में दूसरे सप्ताह से ही तपिश बढ़ने लगी थी। वहीं 2017 में भी फरवरी के अंत से शहर तपने लगा था। इस बार इसमें 10 डिग्री तक का अंतर आया है। रविवार को सबसे गर्म दिन खरगौन में 35 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं, सबसे न्यूनतम तापमान शिवपुरी में 9 डिग्री रिकॉर्ड किया गया।