सिंधिया की राह में कौन अटका रहा रोड़े

scindia-selected-for-president-of-sati

भोपाल।
कांग्रेस के स्टार प्रचारक युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया इस समय कांग्रेस में हाशिए पर हैं। हालात यह हैं कि उनकी कृपा पर राजनीति की सीढिया चढने वाले उनके मंत्री भी अब सोच समझकर बयान दे रहे हैं ।सिंधिया की प्रदेश अध्यक्ष बनने की मुराद पूरी हुई नहीं, अब उनकी राज्यसभा में जाने की अटकलें भी विराम लेती हुई दिख रही है ।

दरअसल मार्च में मध्य प्रदेश में राज्यसभा की तीन सीटें खाली होनी है जिनमें संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस को दो सीटें मिलना तय है।इन सीटों मैं एक के लिए वर्तमान सांसद दिग्विजय सिंह का नाम लगभग तय है। सिंधिया समर्थक लगातार यह मांग करते रहे हैं कि दूसरी सीट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को राज्यसभा में भेजा जाए। लेकिन पिछले दो दिनों से अचानक प्रियंका गांधी का नाम मध्यप्रदेश से राज्यसभा में भेजे जाने के लिए बयानबाजी शुरू हो गई है।

कमलनाथ के कट्टर समर्थक माने जाने वाले लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बाकायदा ट्वीट करके प्रियंका गांधी को राज्यसभा में भेजे जाने की वकालत की है और कहा है कि उनके राज्यसभा में जाने से कांग्रेस मजबूत होगी। नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह ने भी सज्जन सिंह वर्मा के इस बयान का समर्थन किया है। अब यदि प्रियंका मध्य प्रदेश से राज्यसभा के लिए जाती है तो फिर यह तय है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार फिर खाली हाथ रह जाएंगे और फिर ऐसे में उनका क्या रुख होगा, यह भी देखने वाली बात होगी।