MP ELECTION : क्या 64 सालों बाद भोपाल को मिलेगी पहली महिला विधायक

Will-Bhopal-get-first-female-MLA-after-64-years-assembly-election

भोपाल। 

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से इस बार तीन महिला प्रत्याशी चुनावी रण में हैं। इनमें से दो भाजपा और एक कांग्रसे प्रत्याशी है। आज तक राजधानी से कोई महिला प्रत्याशी विधानसभा की सीढ़ी नहीं चढ़ी है। लेकिन इस बार कयास लगाए जा रहे हैं कि इन तीन में से कोई न कोई महिला प्रत्याशी तो जरूर विधानसभा पहुंचेंगी। इनमें जीत के लिए सबसे प्रबल दावेदार पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की बहु कृष्णा गौर को माना जा रहा है। गोविंदपुरा सीट गौर की पारंपरिक सीट है। इसलिए उनकी जीत सुनिश्चित मानी जा रही है। वहीं, भोपाल उत्तर विधानसभा से पूर्व विधायक रसूल अहमद सिद्दीकी की बेटी फातिमा सिद्दीकी भी चुनाव लड़ रही हैं। उनके अलावा कांग्रेस की जयश्री भी बैरसिया विधानसभा चुनाव लड़ रही हैं।

दरअसल, भोपाल में सात विधानसभा सीटे है। इन सात सीटों पर करीब 14 महिलाएं मैदान में हैं। जिसमें से तीन महिला उम्मीदवारों पर सबकी निगाहें टिकी हुई है।इनमें पूर्व महापौर कृष्णा गौर, फातिमा सिद्दिकी और जयश्री हरिकरण शामिल है। बीजेपी ने इस बार गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र से प्रदेश के पूर्व सीएम बाबूलाल गौर की बहू कृष्णा गौर को तो कांग्रेस ने पार्षद गिरीश शर्मा को मैदान में उतारा है।इसमें कृष्णा का पलडा भारी पड़ता नजर आ रहा है।चुंकी गोविंदपुरा सालों से भाजपा की परंपरागत सीट रही है, ऐसे में यहां सेंध लगाना मुश्किल है।वही भाजपा ने भोपाल उत्तर सीट से फातिमा सिद्दिकी को टिकट दिया है जो कांग्रेस के कद्दावर नेता आरिफ अकील के सामने खड़ी है। फातिमा कांग्रेस के पूर्व विधायक रसूल अहमद सिद्दीकी की बेटी हैं और अपने पिता की हार का बदला लेने के लिए कांग्रेस के आरिफ अकील के खिलाफ उतरी हैं।यह सालों से कांग्रेस की सीट रही है, ऐसे में यहां मुकाबला कठिन है और जीत भी मुश्किल दिखाई होती दिखाई दे रही है। इसके अलावा कांग्रेस ने बैरसिया विधानसभा सीट से जयश्री हरिकरण को उम्मीदवार बनाया है।जिनके सामवे भाजपा से वर्तमान विधायक विष्णु खत्री मैदान में है।

अब  इनमें से अगर कोई भी महिला चुनाव जीती तो ना सिर्फ 64  सालों का रिकॉर्ड टूटेगा बल्कि भोपाल को पहली महिला विधायक भी मिलेगी। हालांकि इससे पहले भी कई महिलाओं ने चुनाव लड़ा है, लेकिन भोपाल जिले से कोई भी महिला विधानसभा नहीं पहुंची हैं।  खैर इसका फैसला तो 11  दिसंबर को ही होगा। भोपालवासियों को पूरी उम्मीद है तो इस बार भोपाल को पहली महिला विधायक जरुर मिलेगी।