क्या चीन के राष्ट्रपति के खिलाफ गवाही देने जाएंगे मोदी और ट्रंप!

भोपाल

आपको जानकर हैरानी जरूर होगी..दरअसल एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। बिहार (bihar) के बेतिया में स्थित कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है और याचिका में आरोप चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (shi jinping) के खिलाफ लगाए गए हैं। इस याचिका में डब्ल्यूएचओ (WHO) के डायरेक्टर जनरल डॉ टेडरास एनाथम गैब्रेसस को भी आरोपी बनाया गया है।

कोरोना संक्रमण को लेकर यह मुकदमा स्थानीय वकील (lawyer) मुराद अली ने दायर किया है। इस परिवाद में सुनवाई के लिए सीजेएम की अदालत ने 16 जून की तारीख मुकर्रर की है। वकील साहब का आरोप है कि चीन के राष्ट्रपति ने अपने देश के वुहान से कोरोना संक्रमण फैलाया जो बिहार के बेतिया तक पहुंच गया और डब्ल्यूएचओ के डीजी ने इसे लेकर पूरी दुनिया को झांसे में रखा जिसके कारण स्थितियां इतनी बिगड़ गई। वकील साहब की ओर से इस मुकाबले में गवाह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (donald trump) और भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (narendra modi) को बनाया गया है। यह मामला इसलिए भी दिलचस्प है कि क्या किसी देश की अदालत दूसरे राष्ट्रपति (president) के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति दे सकती है और क्या किसी दूसरे देश के राष्ट्रपति को गवाही के लिए बुलाया जा सकता है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि 16 तारीख को इस मामले में कोर्ट क्या निर्देश देता है।