भोपाल। एमपीपीएससी से चयनित हुए असिस्टेंट प्रोफेसर के बाद अब 91 महिला असिस्टेंट प्रोफेसर शासन के खिलाफ रविवार को मोर्चा खोलेंगे। उच्च शिक्षा विभाग के निष्क्रिय रवैए से परेशान 91 महिला असिस्टेंट प्रोफेसर्स  सड़कों पर उतरेंगी।

जी हां पहले तो न्यायालय के आदेश की गलत व्याख्या करके उच्च शिक्षा विभाग ने मेरिटोरियस 91महिलाओं को प्रभावित कह कर नियुक्ति से वंचित कर दिया। वहीं इन महिलाओं के द्वारा तथाकथित आदेश को लेकर उच्च शिक्ष मंत्री एवं विधि मंत्री से संपर्क किया गया। उच्च शिक्षा मंत्री ने मामले की गंभीरता को समझते हुए पीड़ित महिला प्रोफेसर्स की नियुक्ति हेतु माननीय न्यायालय में शपथ पत्र प्रस्तुत करने का आश्वासन दिया गया है। साथ ही साथ विधि एवं कानून मंत्री माननीय पी सी शर्मा ने भी मेरिटोरियस महिलाओं की नियुक्ति को रोककर रखना अन्यायपूर्ण मानते हुए मामले को तुरंत संज्ञान में लिया तथा माननीय मुख्यमंत्री जी को भी विभिन्न माध्यमों के द्वारा उनके संज्ञान में लाया गया, किन्तु अभी भी उच्च शिक्षा विभाग उक्त दिशा में कोई कार्य करने को तैयार नहीं हैं। अप्रभावित महिलाओं कि नियुक्ति को लेकर विभाग के निष्क्रिय रवैए से परेशान इन महिलाओं ने अब विभाग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दिनांक 5 जनवरी को ये महिलाएं राजधानी भोपाल में नीलम पार्क में सांकेतिक धरना प्रदर्शन करेंगी ।सायंकाल कैंडल मार्च निकाला जावेगा। प्रशासन यदि फिर भी 7जनवरी तक इस मामले में कोई सकारात्मक पहल कर इनकी नियुक्ति नहीं करता है तो ये महिलाएं आमरण अनशन करेंगी। सभी एक साथ इच्छामृत्यु की मांग माननीय मुख्य मंत्री एवं राष्ट्रपति से करेंगी।