उपचुनाव से पहले तेज हुई तकरार, कांग्रेस के निशाने पर सिंधिया, सियासत गर्म

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (MadhyaPradesh) की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Byelection) के ऐलान से पहले सियासत में तीखे प्रहार शुरू हो गए हैं| कांग्रेस (Congress) ने उपचुनाव में उतरने के लिए कांग्रेस छोड़ भाजपा में जाने वाले राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समेत समर्थकों को टारगेट करना शुरू कर दिया है| भोपाल स्थित कांग्रेस दफ्तर (PCC) के बाहर पोस्टर लगाए हैं। इस पोस्टर के जरिए सिंधिया के साथ बीजेपी (BJP) में गए लोगों पर प्रहार किया गया है।

इस पोस्टर पर लिखा है- ‘माफ़ करें गद्दार, बिकाऊ नहीं-टिकाऊ चाहिए.’ | पोस्टर में तस्वीर सिर्फ मोटू और पतलू की नजर आ रही है। इस पोस्टर के नीचे निवेदक के रूप में राजेश कुमार अहिरवार का नाम लिखा हुआ है। सोशल मीडिया पर यह पोस्टर खूब वायरल हो रहा है।

सिंधिया के खिलाफ भाजपा ने चलाया था नारा, अब कांग्रेस ने लगाए पोस्टर
2018 के विधानसभा के चुनाव अभियान की शुरुआत बीजेपी ने एक टैग लाइन ‘माफ़ करो महाराज’ के साथ की थी, जो कांग्रेस के चुनाव प्रबंधन प्रमुख और पूर्व गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर सीधा हमला था, जिसने कांग्रेस को चिड़चिड़ा बना दिया था। कांग्रेस पार्टी को इस हमले का जवाब देना मुश्किल हो गया था। दरअसल, भाजपा ने सिंधिया को सामंतवाद के प्रतीक के रूप में प्रोजेक्ट करने की कोशिश की थी, जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक किसान पुत्र के रूप में प्रचारित किया| यही कारण था कि भाजपा का पूरा अभियान सिंधिया के खिलाफ हो गया था, ‘माफ़ करो महाराज, हमरा नेता शिवराज स्लोगन ने खूब सुर्खियां बटोरी थी|

लेकिन अब स्थितियां बदल गई है| सिंधिया और अन्य 27 कांग्रेस विधायक कांग्रेस पार्टी के निशाने पर हैं। जिसके चलते अब ‘माफ़ करें गद्दार, बिकाऊ नहीं-टिकाऊ चाहिए’ पोस्टर लगाए जा रहे हैं| कांग्रेस छोड़ भाजपा में जाने वाले सिंधिया और उनके समर्थक पूर्व विधायकों को निशाने पर लिया जा रहा है| चुनाव में उतरने के लिए रणनीति के तहत कांग्रेस ने इसे एक प्रमुख मुद्दा बनाया है| उन्हें ‘गद्दार’ तक कहा जा रहा है| वहीं, पोस्टर पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि यह उन 25 लोगों के लिए जिन्होंने पैसे के लिए जनता के मैनडेट को बेच दिया है। वे लोग चुनाव कांग्रेस की टिकट पर जीते थे, लेकिन वोट का सौदा कर लिया है।

उपचुनाव से पहले तेज हुई तकरार, कांग्रेस के निशाने पर सिंधिया, सियासत गर्म