नन्ही बेटी ने दी पिता को मुखाग्नि, हर आंख हुई नम

Younger-daughter-confesses-to-her-father

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के बैरागढ़ क्षेत्र में गुरूवार दोपहर को एक ऐसा दृश्य सामने आया जिसे देखकर हर किसी की आँख में आंसू आ गए। नमकीन व्यवसायी मुकेश मेघर की हार्टअटैक की वजह से मौत हो गई,  आज उनका अंतिम संस्कार हुआ| परंपराओं से हटकर उनकी 11 वर्षीय बेटी ने अपने पिता को मुखाग्नि देकर उनका अंतिम संस्कार किया। जब शवयात्रा में एक छोटी सी लड़की अर्थी के आगे हांडी लेकर चल रही थी तो हर किसी की आँख नम हो गई|  

मामला बैरागढ़ की सर्वोदय कॉलोनी का है। जहां नमकीन के व्यवसायी 38 साल के मुकेश मेघर की मृत्यु के बाद उनकी 11 वर्षीय बेटी ने पिता को मुखाग्नि दी। जब वह अर्थी के आगे हांडी लेकर चलते और फिर शमशान में सभी परम्पराओं को निभाकर अपने पिता को मुखाग्नि देते हुए देखकर मौजूद हर व्यक्ति की आँखे नम हो गईं। बता दें कि बैरागढ़ में नमकीन के व्यवसायी 38 साल के मुकेश मेघर को बीते दिनों हार्ट अटैक आया था। जिस वजह से बुधवार शाम उनका निधन हो गया। मृतक मुकेश की दो बेटियों हैं। कोई बेटा नहीं होने की वजह से मुकेश की बेटी ने ही सभी परम्पराओं का निर्वहन किया।

दो बेटियों में बड़ी बेटी उर्वशी 11 साल और छोटी छह साल की है। उर्वशी छठवीं की छात्रा है। मुकेश की पत्नी वैशाली की सहमति से उर्वशी ने अपने पिता को मुखाग्नि दी। बेटी ने मुखाग्नि देकर लिंगभेद करने और अन्धविश्वासी धार्मिक समाज को एक बड़ा सन्देश दिया है।