17 हजार किसानों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की तैयारी, बैंकों ने थमाए नोटिस

नोटिस मिलने के बाद से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच गई हैं।

जबलपुर, संदीप कुमार। बैंकों से लोन लेकर अपना पेट पालने वाले किसानों (Farmers)  को एक बार फिर झटका लगा है। बैंक ने उन्हें वसूली के नोटिस (Loan recovery notice) थमाए हैं साथ ही बैंक से लिया गए लोन नहीं चुकाने पर कुर्की की चेतावनी भी दी है। नोटिस मिलने के बाद से किसानों में हड़कंप मचा हुआ है।

राज्य सरकार की ऋण माफ़ी योजना के भरोसे बैठे किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  जबलपुर में जिला सहकारी बैंक ने ऐसे 17 हजार किसानों को चिन्हित कर उन्हें नोटिस थमाया है जो कि शासन से कृषि ऋण लेकर उसे चुका नहीं रहे हैं, बैंक इन किसानों को नोटिस देकर उनके खिलाफ कुर्की की कार्रवाई भी करने की तैयारी में है, किसानों के खिलाफ संभवत: यह पहला मौका है जब बैंक के द्वारा वसूली के लिए यह कार्यवाही की जा रही हो, बता दे यह 17 हजार किसानों पर लोन का करीब 140 करोड़ रुपए से ज्यादा का बकाया है।

ये भी पढ़ें – MP Corona: कोरोना के आंकड़ों ने बढ़ाई टेंशन, आज 23 नए पॉजिटिव, 11 दिनों में 200 से ज्यादा केस

जानकारी के मुताबिक खेती के लिए किसानों के द्वारा लिए गए लोन को चुकाने की अधिकतम समय सीमा 1 साल की होती है।  जिला सहकारी केंद्रीय बैंक कृषि संबंधी कार्यों के लिए ब्याज मुक्त कर देता है, पर समय सीमा के खत्म होते ही किसानों पर लोन ली गई रकम का ब्याज लगाना शुरू हो जाता है।  आमतौर पर फसल बेचने के बाद किसान ऋण चुका देता है पर जिले में 17 हजार ऐसे किसान सामने आए हैं जिन्होंने समय पर लोन का पैसा जमा नहीं किया, बैंक अब ऐसे किसानों को चिन्हित कर डिफाल्टर घोषित कर रहा है साथ ही इनसे बकाया राशि वसूलने की तैयारी शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें – Omicron : दिल्ली में कोरोना विस्फोट, एक दिन में मिले 24 ओमिक्रोन संक्रमित

दरअसल किसानों द्वारा बैंक से ली गई राशि को नहीं चुकाने के पीछे एक बड़ा कारण है प्रदेश शासन की “ऋण माफी योजना” इस योजना से अधिकतर किसानों को उम्मीद थी कि उनका ऋण माफ हो जाएगा, लेकिन प्रदेश सरकार के बदलते ही योजना भी बदल गई, ऐसे में कई किसान इससे वंचित है। उन्होंने अपने हिस्से की राशि नहीं चुकाई जब समय बीत गया तो ब्याज भी बढ़ गया।  अब किसान नोटिस का बोझ झेल रहे हैं।

ये भी पढ़ें – राष्ट्रहित की जब भी बात होती है,ओवैसी, बाबा, चचा विरोध ही करेंगे