किसानों के साथ बड़ी ठगी, ना तालाब खुदे ना मछली मिली, डकार लिए करोड़ों रुपये

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  केंद्र सरकार से लेकर मध्यप्रदेश सरकार तक किसानों की आय दो गुना करने का प्रयास कर रही है, योजनाएं बनाकर किसानों को लाभ पहुँचा रही हैं लेकिन कुछ लोग सरकार की इसी मंशा का लाभ उठाकर किसानों के साथ धोखा कर रहे हैं। बड़ी बात ये है कि तमाम शिकायतों के बाद भी धोखाधड़ी करने वाले आजाद घूम रहे हैं और किसान अपनी रकम वापस मांगने के लिए यहाँ वहां भटक रहे हैं।  उन्होंने मुख्यमंत्री से लेकर सभी जगह आवेदन दिए है लेकिन धोखेबाजों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

दरअसल मध्यप्रदेश के कई जिलों के किसान उनके साथ मछली पालन को लेकर हुई करोड़ों रुपये की ठगी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई और अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई को वापस पाने के लिए दर दर भटक रहे हैं।  उनके साथ कॉन्टेक्ट फार्मिंग के नाम पर धोखा हुआ है और ये धोखा किया है कटारा हिल्स बाग़ मुगलिया भोपाल के रहने वाले शातिर दिमाग देवेंद्र जायसवाल और उसकी पत्नी अर्चना जायसवाल ने। शिकायतकर्ता किसानों की माने तो देवेंद्र जायसवाल और अर्चना जायसवाल ने मछली पालन के नाम पर साढ़े पांच लाख रुपये प्रति किसान लिए और कहा कि आपके गांव में मछली पालन के लिए तालाब खोदे जायेंगे और उसमें मछली के बच्चे डाले जायेंगे और आपकी राशि दोगुनी हो जाएगी।

ये भी पढ़ें – इमरती देवी का बड़ा बयान, महाराज सिंधिया मेरे लिए भगवान समान, मुझे किसी की परवाह नहीं

लेकिन किसानों के यहाँ ना तो तालाब खोदे गये और ना ही मछली के बच्चे दिए गए उल्टा जब किसानों ने देवेंद्र जायसवाल और उसकी कम्पनी के एजेंटों से से पैसे वापस मांगे तो वो भी नहीं मिले। अब किसान देवेंद्र जायसवाल और अर्चना जायसवाल के खिलाफ FIR की मांग कर रहे हैं  और अपनी रकम वापस मांग रहे हैं। इसके लिए किसानों ने मुख्यमंत्री से लेकर स्पेशल डीजी फ्रॉड सहित कई जगह आवेदन दिए हैं लेकिन अभी तक देवेंद्र जायसवाल की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

किसानों के साथ बड़ी ठगी, ना तालाब खुदे ना मछली मिली, डकार लिए करोड़ों रुपये

उधर विदिशा में कुछ पीड़ित किसानों ने देवेंद्र जायसवाल की कम्पनी एडीसी के एजेंटों खिलाफ पुलिस में आवेदन दिया जिसमें एसपी के निर्देश के बाद चार एजेंटों के खिलाफ धारा 420 का प्रकरण दर्ज किया गया है। इन किसानों को भी मछली पालन के रकम दो गुनी करने का लालच दिया गया था।

ये भी पढ़ें – करोड़ों का आसामी निकला भू-सर्वेक्षण अधिकारी, 4 ठिकानों पर छापा, लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई

आपको बता दें कि बाग़ मुगलिया निवासी देवेन्द जायसवाल ने पांच कंपनियां बनाई जिसमें (1) ADC INDIA FISHERY COMPANY PVT LTD (2) ADC MILK CO FOODS PRODUCTS PVT LTD (3)  AADFC NIDHI LIMITED (4) ADC 36 SERVICES SELF DRIVEN CAR PVT LTD (5) ADC CASH COUNT FINSERV बनाई।  इनका पता SF -11 C Block , 3rd flore Mansarovar Complex Near Habibganj  Railway Station दिया और फिर इन कंपनियों के माध्यम से किसानों से ठगी की।

ये भी पढ़ें – मासूम तेंदुए को मिली ममता की छाया, एक माह के तेंदुआ शावक को वन विभाग के अफसरों ने रेस्क्यू कर मां के पास पहुंचाया

शिकायतकर्ता किसानों की माने तो करीब 3000 किसानों से करोड़ों अरबों रुपये की ठगी की गई है। लेकिन अब तक ठगी करने वाले देवेन्द्र जायसवाल और अर्चना जायसवाल सामने नहीं आये हैं।  किसानों ने कंपनियों के 21 एजेंटों के नाम भी आवेदन पत्र में सब्भी जगह दिए हैं और एजेंटों पर भी कार्रवाई की मांग की है।