bundelkhand

बुंदेलखंड, मयंक दुबे। बुंदेलखंड (bundelkhand) के निवाड़ी जिले में भाजपा नेता अनिल पांडेय (BJP leader anil pandey) का वीडियो (video) इन दिनों जमकर वायरल (viral) हो रहा है। पांडेय प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान के जन्मदिन (shivraj singh chauhan birthday) के दिन आदिवासी बस्ती (tribal area) में पहुंचे। यहां पहुंचकर उन्होंने आदिवासियों से कहा कि शराब (liquor) बना लीजिए मगर पीजिए मत। नेता जी के हिसाब से इस बयान के पीछे उनकी मंशा थी कि पहले चरण में आदिवासी‌ शराब पीना‌ छोड़ेंगे और दूसरे चरण में शराब बनाना बंद कर देंगे। पर नेताजी का‌ बयान उनके लिए ही गले की फांस बन गया है जो नेताजी से न उगलते बन रहा है न निगलते। उनकी मंशा भले ही अच्छी थी पर शब्दों के जाल ने नेता जी को मुसीबत में डाल दिया है।

यह भी पढ़ें… Shivpuri News: नहर में पानी ना खुलने से परेशान किसानों ने हाईवे पर किया चक्का जाम

दरअसल, यह वीडियो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जन्मदिन का है जिसमें भाजपा नेता अनिल पांडेय आदिवासी बस्ती में प्रदेश के मुखिया का जन्मदिन मनाते हुए आदिवासी महिलाओं और बच्चों से शराब न पीने का संकल्प ले रहे हैं। लेकिन इस वीडियो में वह लोगों को शराब बनाने व बेचने के लिए प्रेरित करते नजर आ रहे हैं। और यह भी कहते नजर आ रहे हैं कि अगर कुछ दिक्कत हुई तो हम आपके साथ हैं।

इस वीडियो के वायरल होने के बाद हर कोई नेताजी को शराब बेचने के लिए प्रेरित करने का दोषी बता रहा है।  इस पूरे मामले पर जब एमपी ब्रेकिंग ने अनिल पांडेय से बात की तो उन्होंने कहा मैं तो इस पूरे इलाके को शराबबंदी से मुक्त कराना चाहता था लेकिन अब यह मेरे जी का जंजाल बन गया है। अनिल पांडेय ने कहा कि वह जिस आदिवासी बस्ती में गए थे वहां पर पिछले कई वर्षों से शराब पीने की वजह से कई लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में बुंदेलखंड में कहावत है की उंगली पकड़कर कौचा पकड़ा जाता है। आदिवासी इलाकों के लोगों की शिक्षा भी उतनी अधिक नहीं है इसलिए पहले मेरे द्वारा उन्हें शराब छोड़ने के लिए संकल्प लेने को कहा गया अगर मैं उन्हें सब कुछ एक साथ कह देता तो शायद वह शराब छोड़ने का संकल्प न लेते। हमारा लक्ष्य तो पूरे इलाके को शराब मुक्त करने का है।