Burhanpur news: बुरहानपुर साइबर सेल ने ऑनलाइन फ्रॉड और क्रेडिट कार्ड बनाने के नाम पर धोखाधड़ी से युवक को बचाया, आप भी रहें सावधान

ऑनलाइन ठगी के मामलों के खिलाफ बुरहानपुर साइबर सेल अलर्ट। लगातार लोगों में जागरूकता फैलाने का प्रयास कर रहे है पुलिस अधीक्षक।

बुरहानपुर, शेख रईस। आजकल ऑनलाइन पैसे के ट्रांजैक्शन और क्रेडिट कार्ड के नाम पर लोगों को ठगे जाने के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इसे लेकर मध्य प्रदेश पुलिस का साइबर सेल काफी सक्रिय है और इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक बुरहानपुर राहुल कुमार लोढ़ा के मार्गदर्शन में बुरहानपुर पुलिस द्वारा सोशल मीडिया के द्वारा आम लोगों को ऑनलाइन ठगी से सावधान रहने के प्रति जागरूक किया जा रहा।

यहां भी देखें- Burhanpur News: सड़क हादसे में प्रशिक्षु DSP रोहित राठौड़ गंभीर घायल, ICU में भर्ती

बावजूद इसके लोग साइबर क्राइम का शिकार हो रहे हैं। जागरूकता के अभाव में ऑनलाइन धोखाधड़ी बेहद आम हो गई है। ऐसा ही एक मामला बुरहानपुर में पुलिस की सक्रियता के चलते हल किया गया और फरियादी को अपने ₹40000 वापस मिले। प्राप्त जानकारी के अनुसार, फरियादी रवि कुमार पिता ईश्वरलाल टिलवानी, निवासी सिंधीबस्ती, बुरहानपुर ने फेसबुक पर क्रेडिट कार्ड के विज्ञापन की लिंक पर क्लिक किया फिर उसे एक कॉल आया।

यह भी देखें- Burhanpur : बाढ़ के पानी में फंसे 2 युवकों को देर रात तक रेस्क्यू ऑपरेशन कर सुरक्षित निकाला

कॉलर ने क्रेडिट स्कोर बहुत अच्छा होने का लालच देकर उसे कई तरह के प्रलोभन दिए। फ्री में बैंक ऑफ बड़ौदा का क्रेडिट कार्ड, बहुत सारे ऑफर्स जैसे कहीं लालच रवि कुमार को दिए गए। फिर रवि के मोबाइल नंबर पर एक लिंक भेजी गई और लिंक पर क्लिक करके उसने सारी जानकारी डाल दी। उसके क्रेडिट कार्ड को चालू करने के लिए अन्य क्रेडिट कार्ड से 10 रुपये का ट्रांजेक्शन करवाया गया । एक अन्य लिंक भेजी गई जिसमें फरियादी ने अपने अमेज़न पे क्रेडिट कार्ड की जानकारी, आधार कार्ड, पैन कार्ड की जानकारी भर दी। कुछ देर बाद उसके अमेज़न पे क्रेडिट कार्ड से ₹40,000 का ट्रांजेक्शन हो गया ।

यह भी देखें- Burhanpur News: अर्चना चिटनिस की प्रेरणा एवं नेतृत्व से जल संरचनाओं के निर्माण कार्य शुरू, 3 करोड़ 33 लाख लीटर जल होगा संग्रहित

फरियादी ने इस धोखाधड़ी की सूचना सायबर सेल में शिकायत की। बुरहानपुर पुलिस के सायबर सेल ने तुरंत कार्यवाही करते हुए अमेज़न पे नोडल अधिकारी से संपर्क कर फ्रॉड ट्रांजेक्शन रुकवाया और ₹40,000 उसे वापिस दिलवाए। इस तरह के सायबर फ्रॉड रोजाना देखने में आ रहे है। इससे बचने के लिए नागरिकों को जागरूकता की आवश्यकता है और हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि इस तरह की फ़र्जी लिंक पर अपने क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड, बैंक अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर और अन्य आवश्यक जानकारियां साझा नहीं करनी चाहिए।