CM Helpline : शिकायतों का बेहतर निराकरण, MP का ये जिला रहा अव्वल, जारी हुई ग्रेडिंग

बता दे कि इंदौर में सीएम हेल्पलाइन के 9000 से अधिक मामले लंबित पड़े हुए हैं।

CM HELPLINE

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh)  में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) द्वारा लगातार सीएम हेल्पलाइन (CM Helpline) की समस्याओं का निराकरण (solving problems) जल्द किए जाने के निर्देश दिए जाते हैं। संतोष कार्रवाई ना होने पर मुख्यमंत्री द्वारा अब तक कई अधिकारियों की क्लास लगाई जा चुकी है। इसी बीच 2021 में सीएम हेल्पलाइन ग्रेडिंग (CM Helpline Grading) जारी की गई है।

मई 2021 की जारी की गई ग्रेडिंग के आधार पर सीएम हेल्पलाइन में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए बुरहानपुर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। बुरहानपुर में सीएम हेल्पलाइन में आए सभी शिकायतों का संतोषप्रद निराकरण किया गया है। जिस पर अब कलेक्टर प्रवीण सिंह ने सभी अधिकारियों को बधाई दी है।

Read More: MP के थाने में ब्लैकमेलिंग और HoneyTrap का खेल, SP ने 3 पुलिसकर्मियों को किया निलंबित

कलेक्टर प्रवीण सिंह (collector praveen singh) ने कहा कि सभी जिला अधिकारियों को बधाई, ऐसी लगन के साथ आगे कार्य करते रहना है। वहीं उन्होंने वैक्सीनेशन महाअभियान में बुरहानपुर जिले में बढ़-चढ़कर लोगों की सहभागिता को भी संतोष जताया है। कलेक्टर प्रवीण सिंह ने वीडियो जारी करते हुए कहा कि बुरहानपुर की जनता ने ठाना है कि हमें कोरोना महामारी से मुक्त होना है। भविष्य में संकट ना फैले, इसलिए टीकाकरण अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया जा रहा है।

बता दे कि Corona काल में बुरहानपुर ने बेहतर प्रदर्शन किया। जहां सीएम हेल्पलाइन में आई समस्याओं का निराकरण किया गया है। संतोष निराकरण के मामले में प्रदेश में बुरहानपुर में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इस मामले में नोडल अधिकारी का कहना है कि जिला बुरहानपुर पूरे राज्य में शिकायतों के संतोषपूर्ण निराकरण में 81 प्रतिशत के साथ पहले नंबर पर है। इसके साथ ही नगर निगम में 94% रेटिंग के साथ राज्य ने अव्वल स्थान प्राप्त किया है। जबकि बुरहानपुर में जिला पंचायत के तौर पर राज्य में 89% वेटेज के साथ तीसरे स्थान में अपनी जगह बनाई है।

वही इस मामले में इंदौर सबसे ज्यादा पीछे देखा जा रहा है। जहां कोरोना और बारिश की वजह से इंदौर में सबसे ज्यादा शिकायतें लंबित बताई जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना महामारी, नगर निगम पुलिस, महिला और बाल विकास विभाग के कारण केसों के निराकरण में देरी हो रही है लेकिन जल्द ही इसका निराकरण शुरू किया जाएगा। बता दे कि इंदौर में सीएम हेल्पलाइन के 9000 से अधिक मामले लंबित पड़े हुए हैं।