बसों के पहिए पर लग सकता है ब्रेक, संचालक कर रहे 50 प्रतिशत तक किराया बढ़ाने की मांग

बस संचालकों का कहना है कि उनको उम्मीद थी कि शादियों के मुहूर्त (Wedding Season) शुरू होते ही यात्रियों की संख्या बढ़ जाएगी, लेकिन बसों में ज्यादा यात्री नहीं बढ़ पा रहे हैं। यही कारण है जो कुल 733 बसों में से सिर्फ 195 बसों का संचालन हो रहा है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना वायरस (corona virus) के कारण बसों (bus) के संचालन (operation) पर काफी असर (impact) पड़ा है। वही कोरोना के फैलते संक्रमण (Spreading of corona virus) के डर के चलते हैं लोग बसों (buss) से कम ही सफर (travel) कर रहे हैं। भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (Bhopal City Link Limited) यानी कि बीसीएलएल (BCLL) की चार्टर्ड (Chartered) और अन्य साधारण बसों (Other Busses) में 20 प्रतिशत से ज्यादा यात्रियों (passengers) की संख्या नहीं बढ़ी है। कोरोना वायरस (corona Virus) को लेकर अभी तक लगातार घाटा झेल रहे बस संचालक (bus operation) जल्द ही मध्यप्रदेश में बसों का संचालन बंद करने का फैसला लेने जा रहे हैं। मध्य प्रदेश प्राइम रूट बस एसोसिएशन (Madhya Pradesh Prime Route Bus Association) के अध्यक्ष का कहना है कि 1 हफ्ते के अंदर मिटिंग कर हड़ताल (strike) का निर्णय लिया जाएगा।

कोरोनावायरस चलते हैं नागदा, पुतलीघर आईएसबीटी और लालपुर जैसे बस स्टैंड (Bus Stand) पर जरा भी रौनक देखने को नहीं मिल रही है। बसों (bus) से सफर करने वाले यात्रियों की संख्या बहुत ही कम है, जिसके चलते इन जगहों पर पहले की तरह चहल-पहल नहीं है। वहीं बस संचालकों का कहना है कि उनको उम्मीद थी कि शादियों के मुहूर्त (Wedding Season) शुरू होते ही यात्रियों की संख्या बढ़ जाएगी, लेकिन बसों में ज्यादा यात्री नहीं बढ़ पा रहे हैं। यही कारण है जो कुल 733 बसों में से सिर्फ 195 बसों का संचालन हो रहा है।

इधर मामले को लेकर बंस संचालक का कहना है कि मध्यप्रदेश शासन (Madhya Pradesh Government) द्वारा अप्रैल से लेकर सितंबर माह यानी की साढ़े 5 महीने का टैक्स माफ किया गया है, जिसके बाद सितंबर से भोपाल के साथ ही प्रदेश भर में बसों का संचालन दोबारा से शुरू किया गया था। लेकिन कोरोना के (Due to corona) चलते यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ी है, जिससे हमें बहुत घाटे (Loss) का सामना करना पड़ रहा है। आगे संचालक ने बताया कि हमें हो रहे घाटे की पूर्ति करने के लिए शायद 50 फीसदी यात्री किराया भी बढ़ाना पड़ सकता है।

बता दें कि कोरोनावायरस के चलते अप्रैल से लेकर सितंबर तक के लिए बसों का संचालन बंद कर दिया गया था, जिसके कारण बस संचालन (Buss Operation) से जुड़े कर्मचारियों को आर्थिक समस्या (Financial Issues) का सामना करना पड़ रहा था। बस कर्मचारियों की आर्थिक स्थिति को देखते हुए प्रदेश सरकार ने 5 सितंबर से प्रदेश भर में कोरोनावायरस के नियमों का पालन करते हुए बस संचालन शुरू कराने का फैसला किया था।