बालिग उम्र से 15 दिन छोटी लड़की से विवाह रचाना पड़ा महंगा, मेंहदी लगे दूल्हे को पुलिस ने किया गिरफ्तार

छतरपुर। संजय अवस्थी| बालिग उम्र यानि 18 साल से महज 15 दिन छोटी एक लड़की से प्रेम विवाह रचाना एक युवक को महंगा पड़ गया। घर में शादी समारोह की रस्में चल रही थीं। इसी दौरान पुलिस पहुंच गई। पुलिस और महिला बाल विकास विभाग की टीम मेंहदी के हाथों से सजे दूल्हे को थाने ले आयी। अब उसे एक महीने पहले लड़की को घर से भगाने के आरोप में जेल भेजा जा रहा है। मामला छतरपुर के सिविल लाईन थाना क्षेत्र अंतर्गत छुई खदान इलाके का है।

ये है मामला
जानकारी के मुताबिक चंदला क्षेत्र के ग्राम मनुरिया के रहने वाले एक अनुरागी परिवार की नाबालिग लड़की 3 मई 2020 को अपने घर से लापता हो गई थी। इस मामले में लड़की के पिता की शिकायत पर चंदला थाने में रामबहादुर अनुरागी तनय लक्ष्मण अनुरागी उम्र 22 साल निवासी छुई खदान सटई रोड थाना सिविल लाईन के विरूद्ध बहला-फुसलाकर नाबालिग को घर से भगाने का मुकदमा दर्ज किया गया है। हालांकि लड़का और लड़की अपनी मर्जी से घर से भागे थे और एक महीने तक साथ रहने के बाद प्रेम विवाह करने के इच्छुक थे लेकिन चूंकि लड़की नाबालिग थी इसलिए पुलिस ने लड़के पर प्रकरण दर्ज कर लिया।

शनिवार को रामबहादुर अनुरागी अपनी इसी प्रेमिका के साथ विवाह के बंधन में बंध रहा था। सटई रोड स्थित छुई खदान क्षेत्र में मौजूद लड़के के घर में शादी समारोह चल रहा था। दूल्हा और दुल्हन दोनों एक-दूसरे को वरमाला डालने के लिए तैयार थे लेकिन तभी पुलिस पहुंच गई। सिविल लाईन थाना प्रभारी ब्रजेन्द्र चाचौदिया, महिला बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी विक्रम सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता पुष्करनाथ पाण्डेय, सोनल मिश्रा एवं बाबू संदीप खरे ने मौके पर पहुंचकर लड़की के बालिग होने संबंधी दस्तावेज जांचे तो वह 17 साल 11 महीने 15 दिन की पायी गई। इसी आधार पर पुलिस ने विवाह रूकवा दिया और फिर लड़के के विरूद्ध एक महीने पहले दर्ज चंदला थाने के मुकदमे में उसकी गिरफ्तारी कर ली गई। अब लड़के को चंदला थाने की पुलिस को सुपुर्द कर दिया गया है।