पुलिस का अमानवीय चेहरा आया सामने, बांधे युवक के हाथ-पैर, जानिए पूरी वजह

छतरपुर, संजय अवस्थी। जिले में पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है जंहा पुलिस द्वारा 1 युवक के हाथ पैर बांधकर कमरे में बंद कर दिया। मामला बमीठा थाना के सूरजपुरा गांव का है, जहां पुरवा में रहने वाले दो युवक काशीराम आदिवासी और पुष्पेन्द्र सिंह के बीच आपस में किसी बात को लेकर विवाद हो गया था। विवाद इतना बढ गया कि कई घंटो तक लोग तमाशा देखते रहे और परेशान होकर परिजनों ने डायल हंड्रेड को सूचना दी।

मौके पर पहुंचे डायल हंड्रेड के आरक्षक ने मामले को निपटाने की जगह युवक के हाथ पैर बांधकर उसे बंद कमरे में कैद कर दिया, तस्वीरों में आप देख सकते है किस तरह से आरक्षक संतोष प्रजापति लाल रंग के टीशर्ट पहने युवक को उसके कमरे की तरफ धकेलता हुआ लेकर जा रहा है और जब पास जाकर देखा गया तो युवक कमरे में हाथ पैरों से जकड़ा हुआ जमीन पर पड़ा था।

पुलिस द्वारा अमानवीयता की तस्वीरें बेहद चौकाने वाली है, डायल 100 के आरक्षक संतोष प्रजापति से जब उनके इस अमानवीय कृत्य पर बात की तो यूवक के नशे में धुत होने की वजह से उसे बांधकर कमरे में कैद करने की बात कह रहे है, वही पीड़ित अपने साथ हुए इस अमानवीय व्यवहार के बाद जमीन पर हाथ पैरों से जकड़ा रो रोकर खुद को बेगुनाह बता रहा है। हालांकि बाद में युवक को थाने ले जाया गया और दोनों पक्ष में आपसी सुलह हो गई। लेकिन डायल हंड्रेड जो लोगों को मुशीबत के समय पहुंचकर उन्हें इंसाफ दिलाने का काम करती है, वही पुलिस जब मानवता की हदे पार करने लगे तो कैसे लोगो को इंसाफ की उम्मीद रहेगी।