घंटो की मशक्कत के बाद सेना ने दीपेंद्र को 40 फीट बोरवेल से जीवित निकाला, एंबुलेंस से चेकअप के लिए भेजा अस्पताल

ग्वालियर, जबलपुर और सागर की SDERF को टीम के साथ, NDRF की टीम और आर्मी यूनिट ने साथ मिलकर इस रेस्क्यू ऑपरेशन को सफल बनाया।

छतरपुर,डेस्क रिपोर्ट। जाको राखे साईंया मार सके ना कोय, ऐसा ही कुछ देखने को मिला है मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में जहां 5 साल के दीपेंद्र यादव (deependra yadav) को 7 घंटे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सकुशल जीवित निकाल लिया गया है। बोरवेल से निकालते ही प्रशासन ने दीपेंद्र को परिजनों के साथ चेक अप के लिए अस्पताल भेज दिया है।

यह भी पढ़े…सियासी तूफान के बाद उद्धव ठाकरे ने दिया इस्तीफा बोले मुझे मुख्यमंत्री पद छोड़ने का अफसोस नहीं

बता दें कि 7 घंटे चले इस सफल रेस्क्यू ऑपरेशन में स्टेट डिजास्टर इमरजेंसी रिस्पॉन्स फोर्स, स्थानीय पुलिस एवं प्रशासन के साथ सेना ने मोर्चा संभाला था। जनाकरी के मुताबिक बालक दीपेंद्र लगभग दोपहर दो बजे खेत पर खेलते वक्त 40 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया था। इसके बाद कलेक्टर संदीप जीआर और बाकी टीम ने मीडिया को जानकारी दी कि बच्चा लगभग 25 फीट की गहराई पर जाकर फंस गया है। जब प्रशासन द्वारा गड्डे में रस्सी डाली गई तो बच्चे ने उसे पकड़ लिया, इसके बाद बच्चे को बोरवेल में लगातार ऑक्सीजन की सप्लाई भी दी गई।

घंटो की मशक्कत के बाद सेना ने दीपेंद्र को 40 फीट बोरवेल से जीवित निकाला, एंबुलेंस से चेकअप के लिए भेजा अस्पताल

यह भी पढ़े…आचार संहिता के उल्लंघन पर प्रत्याशी के पति के विरूद्ध एफआईआर दर्ज

ओरछा रोड पर नारायणपुर और पठापुर के पास की हुई इस घटना की जानकारी के बाद इस बोरवेल के बराबर एक 28 फुट का एक गड्डा खोदने की कवायद शुरू की गई। इस बीच हो रही बारिश के चलते भी प्रशासन और सेना को इस रेस्क्यू ऑपरेशन में दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़े…70 नर्सिंग कॉलेज की मान्यता समाप्त करने के निर्देश

ग्वालियर, जबलपुर और सागर की SDERF को टीम के साथ, NDRF की टीम और आर्मी यूनिट ने साथ मिलकर इस रेस्क्यू ऑपरेशन को सफल बनाया। इसके अलावा उपस्थित ग्रामीणों ने भी पूरी तरह इस रेस्क्यू में साथ निभाया।

यह भी पढ़े…जबलपुर में बारिश ने खोल दी नगर निगम की पोल, देखें वीडियो

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी बच्चे को मां से बात कर उन्हें न केवल बच्चे को सुरक्षित निकलने का आश्वासन दिया था बल्कि शासन प्रशासन और बाकी टीमों से भी लगातार संपर्क कर ऑपरेशन को सफल करने की बात कही थी।

यह भी पढ़े…सड़क पार करते करते अचानक रूकी लड़की, कंफ्यूज बाइक सवार ने जो किया वो दिल दहला देगा

बता दें कि 7 घंटे चले इस रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद मासूम दीपेंद्र को उसके मां बाप के साथ एंबुलेंस द्वारा अस्पताल भिजवा दिया गया जहां अब डॉक्टरों की देख रेख में उसका स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा।