कोयला खदान की छत गिरने से एक मजदूर की मौत, मृतक के परिवार ने प्रदर्शन कर मांगा मुआवजा

कोल माइंस (Coal mines) RCPL में सुबह लगभग 5 बजे माइंस की छत गिरने से हादसा हो गया। हादसे में दो मजदूर मलबे के नीचे दब गए। जिसमें से एक मजदूर की मौत हो गई।

छिन्दवाड़ा,विनय जोशी। उमरेठ तहसील अंतर्गत ग्राम मोआरी में एम.पी. बिरला ग्रुप द्वारा संचालित भूमिगत कोल माइंस RCPL में सुबह लगभग 5 बजे माइन की छत गिरने से हादसा हो गया। हादसे में जिला सिंगरौली के मजदूर किसन कोल पिता विश्वनाथ कोल उम्र 49 वर्ष एवं तहसील उमरेठ के ग्राम मोआदई निवासी राकेश निकोसे पिता देवाराम निकोसे उम्र 27 वर्ष की कोयले के मलवे में दब गए। जिसमें घायल किसन कोल को तुरंत मलबे से निकालकर परासिया के मेश्राम अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल उसकी हालत स्वस्थ बताई जा रही है।

ये भी पढ़े-1 दिन में 2 मगरमच्छ मिलने से मचा हड़कंप , फॉरेस्ट विभाग ने रेस्क्यू कर चंबल नदी में छोड़े

वहीं राकेश निकोसे को सुबह 8 बजे मलवे से निकाला गया और उसकी घटना स्थल पर मौत हो चुकी थी। फिर भी ओपचारिकता पूरी करने जिला अस्पताल छिन्दवाड़ा ले जाया गया जहां चिकित्सकों द्वारा उसे मृत घोषित कर पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया गया है। परंतु परिजनों द्वारा शव को घर ना ले जाकर, कोल माइन्स के मेन गेट के सामने सड़क पर रखकर विभिन्न मांगो को लेकर प्रदर्शन किया गया।

ये भी पढ़े-Bhind News : खनिज विभाग की कार्रवाई, अवैध उत्खनन के 20 वाहनों को किया जब्त

SDM मनोज कुमार प्रजापति, SDOP अनिल शुक्ला, TI प्रतिक्षा मार्को, तहसीलदार पूर्णिमा भगत सहित पुलिस बल की उपस्थिति में खान प्रबंधन ने मृतक के परिवार को 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता अंतिम संस्कार के लिए प्रदान कर परिवार के एक वयस्क व्यक्ति को खदान में नोकरी एवं मृतक की मुआवजा राशि देने का लिखित आश्वासन दिया। इसके बाद ही मृतक के परिजन शव को अंतिम संस्कार के लिए अपने घर ले गये।