मुख्यमंत्री के गृह क्षेत्र में किसान ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

In-the-Chief-Minister's-home-area--the-farmer-suicides-himself-by-hanging

छिंदवाड़ा। चुनाव में किसानों के मुद्दों पर जमकर सियासत होती है, लेकिन प्रदेश में किसान आत्महत्याओं का मामले थम नहीं रहे हैं| अब मुख्यमंत्री कमलनाथ के क्षेत्र में कर्ज से परेशान एक किसान ने ख़ुदकुशी कर ली| जिले के कुंडीपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम मेघासिवनी में किसान ने खेत पर फांसी लगा ली, बताया जा रहा है कि किसान कर्ज न चुका पाने से परेशान था| बेटी की शादी के लिए उसने कर्ज लिया था| 

जानकारी के मुताबिक जिले के कुंडीपुरा थाना क्षेत्र के मेघास्विनी गांव के रहने वाले अकरू उइके (55) पुत्र मारू उइके का शव गुरुवार सुबह करीब 9 बजे उसी के खेत में फांसी पर लटका मिला। मृतक की पत्नी सकलबाती ने बताया कि उसने बेटी की शादी के लिए एक जमींदार से 9000 रुपये का उधार लिया था और वह उसे चुका नहीं पा रहा था। बीते 4 सालों से फसल भी खराब हो रही है। अकरू इस बात से कई हफ्तों से परेशान चल रहा था। मृतक के बेटे कमलेश उइके ने बताया कि वे दो भाई और तीन बहनें है। और बहन की शादी के लिए करीब 4 साल पहले पिता अकरू ने छिंदवाड़ा निवासी कबीर पटेल से 9 हजार रुपए उधार लिए थे|  

हालाँकि जमींदार ने अभी तक उनसे कोई पैसा मांगा भी नहीं था। लेकिन पिता परेशान रहते थे| अकरू के बेटे ने बताया कि उनके परिवार पर मात्र दो एकड़ जमीन है। लेकिन कुछ सालों से फसल में नुक्सान हो रहा था, इसलिए माता पिता सहित वे मजदूरी करते थे|  मृतक की पत्नी सकलवती ने बताया कि कर्जा देने वाले कबीर पटेल ने उन लोगों की आर्थिक तंगी देखते हुए मकान भी बनवाकर दिया था। उनके बेटे कमलेश को भी पढ़ाई के लिए छिंदवाड़ा स्थित खुद के घर में कमरा दिया है। उन्होंने कभी कर्ज चुकाने का भी नहीं बोला। किसी और व्यक्ति से भी पति अकरू ने कर्ज लिया हो, तो पता नहीं।

फिलहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है| पुलिस ने कहा कि मामले की जांच जारी है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।