रिश्वतखोरी पर लोकायुक्त का शिकंजा, तीन अलग-अलग मामलों में जेई, इंजीनियर, सचिव समेत 6 धराये

lokayukt-action-in-chindwara-chatarpur-district

छिंदवाड़ा/छतरपुर/खजुराहो। मध्य प्रदेश में कुछ सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों में रिश्वतखोरी का लालच इस कदर बढ़ गया है कि यह किसी कार्रवाई से नहीं डरते| जबकि लोकायुक्त पुलिस लगातार ऐसे रिश्वतखोरो को अपने शिकंजे में ले रही है| गुरूवार को प्रदेश में रिश्वतखोरी के तीन बड़े मामले सामने आये हैं| छिंदवाड़ा में बिजली वितरण कंपनी के कार्यालय में पदस्थ जूनियर इंजीनियर(जेई) और कंप्यूटर ऑपरेटर को लोकायुक्त पुलिस टीम ने 8 हजार रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। वहीं छतरपुर जिले के राजनगर के जनपद कार्यालय में इंजीनियर, बाबू और डॉटा एंट्री ऑपरेटर को रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है, वहीं तीसरी बड़ी कार्रवाई भी छतरपुर में ही कि गई है, जहां सागर लोकायुक्त की टीम ने 10 हजार की रिश्वत लेते हुए ग्राम पंचयात खौंप के सचिव को दबोचा है| 

जेई और कंप्यूटर ऑपरेटर आठ हजार लेते धराये 

छिंदवाड़ा जिले के ग्राम कुंडालीकला में स्थित बिजली वितरण कंपनी के कार्यालय में पदस्थ जूनियर इंजीनियर(जेई) और कंप्यूटर ऑपरेटर को लोकायुक्त पुलिस टीम ने 8 हजार रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। इन दोनों ने एक किसान से नया कनेक्शन देने के लिए 9500 रुपए रिश्वत मांगी थी। परासिया तहसील के ग्राम पसला निवासी शेर खान ने जबलपुर लोकायुक्त से शिकायत की थी कि नया बिजली कनेक्शन देने के बदले कुंडाली कला में पदस्थ जेई विवेक दुबे और कंप्यूटर ऑपरेटर आशीष कुमार शर्मा 9 हजार 500 रुपए रिश्वत मांग रहे हैं। बाद में 8 हजार रुपए में सौदा तय हो गया। लोकायुक्त की टीम ने कुंडालीकला स्थित बिजली वितरण कंपनी के कार्यालय में छापा मारकर जेई विवेक दुबे और कंप्यूटर ऑपरेटर आशीष कुमार को फरियादी शेर खान से 8 हजार रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। 

 

जनपद पंचायत के इंजीनियर, बाबू और डॉटा एंट्री ऑपरेटर पकड़ाए 

छतरपुर जिले में गुरुवार को दो बड़ी कार्रवाई की गई। सागर लोकायुक्त की टीम ने रिश्वत लेने के आरोप में दो मामलों में चार लोगों को गिरफ्तार किया है। जनपद पंचायत के इंजीनियर, बाबू और डॉटा एंट्री ऑपरेटर को बिल पास कराने के बदले रिश्वत लेते हुए और दूसरे मामले में पंचायत सचिव को एनओसी देने के बदले रिश्वत लेने के आरोप में रंगे हाथ पकड़ा है।  राजनगर जनपद पंचायत के बरेठी ग्राम पंचायत के सरपंच पति गणेश कुशवाहा से बिल मूल्यांकन और बिल पास कराने के लिए इंजीनियर ,बाबू और कंप्यूटर डाटा ऑपरेटर ने 52 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। 16 हजार की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त टीम ने तीनों को गिरफ्तार किया है। जनपद पंचायत राजनगर के इंजीनियर सीताराम रावत को 6 हजार और बाबू जगदीश त्रिपाठी को 5 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा गया 

खोप पंचायत का सचिव भी दस हजार लेते पकड़ाया 

सागर लोकायुक्त की टीम ने 10 हजार की रिश्वत लेते हुए ग्राम पंचयात खौंप के सचिव को भी दबोचा है। रहमान बक्श से खेत में बाउंड्रीवॉल बनाने के लिए एनओसी देने के एवज में सचिव मनोज खरे 10 हजार की मांग कर रहे थे। लोकायुक्त की टीम ने छतरपुर में मोटे के महावीर मंदिर के सामने से रिश्वत लेते सचिव को गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त टीआई बीएम द्विवेदी, आरक्षक अरविंद नायक, निलेश पांडे,आशुतोष व्यास, सुरेंद्र प्रताप सिंह, संतोष गोस्वामी, सफीक खान ने सचिव को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।