निलंबित अधिकारी ने की आत्महत्या, परिवार का आरोप उच्चाधिकारियों के दबाव से थे पेरशान

छिंदवाडा। छिंदवाडा में सहायक भू अभिलेख अधिकारी प्रवीण मरावी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत को लेकर परिजनों ने जिला प्रशासन के अफसरों पर आरोप लगाया है। परिजनों का कहना था कि प्रवीण ने आत्महत्या की है और वह पिछले कई दिनों से उच्चाधिकारियों के दबाव से परेशान था। उसके उपर गलत तरीके से नियुक्ति कराने का दबाव कलेक्टर लगातार दे रहे थे जिसके चलते उसने आत्महत्या कर ली।

सहायक भू अभिलेख अधिकारी की मौत से कल देर रात शहर के एक निजी अस्पताल में हंगामा खडा हो गया। प्रवीण की मौत से आहत उसकी बहन ने जिला प्रशासन के आला अफसरों पर आरोप लगाया कि वे अवैध तरीके से एक नियुक्ति करवाना चाह रहे थे और इसके लिए उसपर लगातार दबाव बनराया जा रहा थ्ज्ञा। ऐसा नहींं करने पर उसे निलंबित भी कर दिया गया था जिसके चलते उसने आत्महत्या कर ली।

उधर प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों ने मामले में जांच करने की बात कही है। लेकिन इस घटना के बाद अफसर सकते में नजर आए। अस्पताल में म्रतक प्रवीण के परिजन लगातार अधिकारियों से सवाल कर रहे थो। इस पूरे मामले के चलते भाजपा के नेता भी मौके पर पहुंच गए थे। ऐसे में यह मामला राजनीतिक तौर से तूल पकडे इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता।