छिंदवाड़ा, विनय जोशी। नाबालिग बालिका को अगवा करने जैसे संगीन मामले का एक आरोपी छिंदवाड़ा (Chhindwara) के परासिया (Parasia) पुलिस की कस्टडी से फरार हो गया। जिसकी तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है। लेकिन 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ अभी भी खाली है। टीआई सुमेर सिंह जगेत के मुताबिक आरोपी नाबालिग को अगवा करने के आरोप में सिवनी से धराया था। बुधवार को पुलिस कार्रवाई में व्यस्त थी, इसी दौरान आरोपी ने शौच का बहाना किया। एक आरक्षक उसे शौचालय ले गया। यहां से मौका पाकर आरोपी फरार हो गया। आरोपी की धरपकड़ के लिए अलग-अलग पुलिस टीमें सर्चिंग कर रही हैं। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ फरारी का प्रकरण भी दर्ज किया है।

यह भी पढ़ें…इंदौर : हाईटेक तरीके से दिया एटीएम लूट को अंजाम, पुलिस जांच में जुटी

एसडीओपी अनिल शुक्ला ने बताया कि मैग्जीन लाइन परासिया निवासी 23 वर्षीय अंकित सरेयाम बीती 14 जून को एक नाबालिग को बहला-फुसलाकर साथ ले गया था। इसके बाद पुलिस ने मामले को दर्ज करते हुए आरोपी अंकित को सिवनी जिले से गिरफ्तार किया था। पुलिस आज उसे लेकर परासिया पहुंची थी। तभी उसने आरक्षक को शौच जाने की बात कहकर शौचालय से ही फरार हो गया।

24 घंटे से पुलिस को दे रहा चकमा
पिछले 24 घंटे से फ़रार आरोपी पुलिस को चकमा दे रहा है। आरोपी बीती रात पगारा में अपने एक दोस्त के यहां ठहरा हुआ था। जहां से उसने दोस्त का मोबाइल भी चुरा कर भाग गया। इससे पहले आरोपी युवक ने एक कपड़े की दुकान में पहुंचकर कपड़ा खरीदा, और यहां भी कपड़ा लेकर बिना पैसे दिए ही नौ दो ग्यारह हो गया। फिलहाल पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। लेकिन आरोपी अभी भी पुलिस के हत्थे नहीं चढ पाया है। एक नाबालिग बालिका को अगवा करने के मामले में सिवनी से गिरफ्तार किये गए आरोपी के फरार होने के मामले में पुलिस भले ही सफाई दे रही है। लेकिन इस मामले में पुलिस की कार्यशैली पर भी प्रश्न चिन्ह लग गया है। दरअसल ऐसे संगीन मामले के आरोपी को बिना हथकड़ी के कैसे खुला रखा गया। वही शौच जाने के दौरान भी उसे एक आरक्षक के भरोसे क्यों छोड़ा गया। यह सोचने वाली बात है।