प्रधान आरक्षक की हत्या, सबूत मिटाने आरोपियों ने दफनाया शव

छिंदवाड़ा, डेस्क रिपोर्ट। 27 लाख रुपयों के लेनदेन को लेकर एक प्रधान आरक्षक की हत्या कर दी गई। आरोपियों ने छिंदवाड़ा के चांद थाना में पदस्थ प्रधान आरक्षक विजय बघेल की हत्या कर लाश को सिवनी जिले में एक प्लाटिंग साइट में गढ्डा खोदकर दफना दिया गया। मामलें का खुलासा तब हुआ जब प्रधान आरक्षक अचानक लापता हो गए, पुलिस ने जब छानबीन कर फोन की लोकेशन निकाली, तो एक नंबर से लगातार बात करना मोबाइल में सामने आया, नम्बर पराहुल नेमा नाम मे युवक का निकला, पुलिस ने राहुल सहित अन्य तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो मामला सामने आया है, इनके बीच 27 लाख रुपयों के लेनदेन को लेकर विवाद चल रहा था, जिसके चलते आरोपियों ने प्रधान आरक्षक को मौत के घाट उतार दिया। और शव को ठिकाने लगाने की मंशा से दफना भी दिया। गुरुवार को पुलिस अधिकारी सिवनी पहुंच गए और शव को निकलवाया।

मुरैना में सम्राट मिहिर भोज की पट्टी को लेकर दो समुदाय आमने-सामने, एमएस रोड पर किया प्रदर्शन

पुलिस के अनुसार मूलत: ग्राम जैतपुर जिला सिवनी में रहने वाले प्रधान आरक्षक विजय बघेल उम्र 46 वर्ष की करीब 20 दिन पहले छिंदवाड़ा पुलिस लाइन से चौरई के थाना चांद में हुई थी, विजय चौरई परिवार सहित आ गए, दो दिन पहले 21 सितम्बर को विजय घर से थाना जाने के लिए निकले, लेकिन अचानक गायब हो गए, आररोपियों ने रास्ते में ही उसका अपहरण कर धारदार हथियारों से हमला कर हत्या कर दी, हत्या के बाद लाश को सिवनी में एक प्लाटिंग साइट पर गढ्डा खोदकर दफना दिया, उसके बाद आरोपियों ने मोबाइल फोन व मोटर साइकल को उत्सव रिसोर्ट के पास फेंक दिया। प्रधान आरक्षक विजय बघेल के अचानक गायब होने पर पुलिस अधिकारियों ने तलाश शुरु कर दी, उसके मोबाइल फोन के लोकेशन निकाला गया तो विजय बघेल की सिवनी के प्रापर्टी डीलर राहुल नेमा उम्र 40 वर्ष के साथ लगातार बातचीत होने की जानकारी मिली, जिसपर पुलिस ने राहुल नेमा व उसके तीन साथियों को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की पूरे मामले का खुलासा हुआ। जिसके बाद गुरुवार को पुलिस अधिकारियों की टीम  मौके पर पहुंच गई, जहां पर चारों संदेहियों की निशानदेही पर दफन लाश को बाहर निकलवाया।

सड़क किनारे फिसल कर गिरी बच्ची, हाथ खुली डी पी में बिजली की तारों से टकराया, दर्दनाक मौत

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि वारापत्थर सिवनी निवासी प्रापर्टी डीलर राहुल नेमा के साथ प्रधान आरक्षक विजय बघेल ने 27 लाख रुपए में एक जमीन का सौदा किया था, रुपया लेने के बाद भी राहुल नेता द्वारा रजिस्ट्री नहीं की जा रही थी, जिसके चलते विजय बघेल द्वारा रुपया वापस करने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है, जिसके चलते राहुल नेमा ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर प्रधान आरक्षक का अपहरण कर हत्या कर दी, इसके बाद लाश को अपनी ही प्लाटिंग साइट में दफना दिया। पूछताछ में चारो आरोपियों ने बताया कि प्रापर्टी डीलर राहुल नेता ने अपने सृष्टि नगर स्थित आफिस में ही बैठकर प्रधान आरक्षक विजय बघेल की हत्या करने की योजना बनाई, जिसके चलते पहले ही उसने बम्होड़ी गांव के पास प्लाटिंग साइड पर चार फीट का गहरा गढ्डा खुदवा दिया था, इसके बाद वारदात को अंजाम देकर लाश को दफना दिया।

.