जबलपुर संदीप कुमार। कोरोना संक्रमण के चलते करीब 2 साल से निजी स्कूल बंद है इसके बाद भी प्रदेश भर के निजी स्कूल संचालक सरकार पर दवाब बनाते हुए ट्यूशन फीस में वृद्धि की मांग कर रही है। निजी स्कूल की इस मनमानी को लेकर अब नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच ने निजी स्कूल एसोसिएशन को 48 घंटे का नोटिस दिया है और हड़ताल वापस लेने को कहा है।

MPPSC Calendar 2021: नवंबर में होगी मुख्य परीक्षा 2020, यहां देखें पूरा एग्जाम शेड्यूल

मंच ने की चेतावनी

निजी स्कूल एसोसिएशन को नागरिक उपभोक्ता मंच ने नोटिस देते हुए कहा है कि अगर स्कूल एसोसिएशन ने हड़ताल वापस नहीं ली तो फिर उनके खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। दरअसल ट्यूशन फीस बढ़ाने को लेकर प्रदेश भर के निजी स्कूलों ने 12 जुलाई से स्कूलों को बन्द कर चाबी हर जिले के डीईओ को देने का फैसला लिया है।

अधिवक्ताओं ने काली पट्टी लगाकर लोक अदालत का किया बहिष्कार, एडीजे कोर्ट खुलवाने की मांग

जब तक स्थिति सामान्य नहीं तब तक नहीं बढ़ेगी फीस

कोरोना को देखते हुए हाईकोर्ट ने 4 नवंबर 2020 को राज्य सरकार द्वारा 10 प्रतिशत फीस बढ़ाए जाने पर निजी स्कूलों को लेकर स्पष्ट निर्देश दिये थे कि जब तक कोविड संक्रमण रहेगा और स्कूल की स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक कोई भी निजी स्कूल ट्यूशन फीस के अलावा कोई शुल्क नहीं ले सकता है।

Umaria News: जब प्रभारी मंत्री ने कहा – मुझसे बुरा कोई नहीं होगा, Video Viral

हाई कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए नागरिक उपभोक्ता मंच की ओर से नोटिस जारी कर चेतावनी दी गई है कि अगर फीस बढ़ाने को लेकर हड़ताल होती है तो फिर हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना होगी। मंच की ये याचिका कोर्ट में लंबित है। इसमें निजी स्कूल एसोसिएशन को अनावेदक बनाया गया है। नोटिस में कहा गया है कि एसोसिएशन को अपना पक्ष हाईकोर्ट में रखना चाहिए न कि हड़ताल का रूख अपनाना चाहिए