उद्योग विभाग का क्लर्क 3000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार, लोकायुक्त की कार्रवाई

मुरैना, संजय दीक्षित।  मुरैना जिले के उद्योग विभाग में पदस्थ बाबू देवेंद्र गुप्ता को लोकायुक्त की टीम ने 3000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ लिया। पकड़े गए बाबू के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। लोकायुक्त ग्वालियर में फरियादी ने शिकायत की थी कि बाबू देवेंद्र गुप्ता दूध डेयरी के लिए 7 लाख रुपये के लोन को स्वीकृत कराने के लिए  15 हजार रुपये की रिश्वत की मांग रहा था।  शिकायत के बाद लोकायुक्त ने जाल बिछाकर आज भ्रष्टाचारी बाबू देवेंद्र गुप्ता को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

लोकायुक्त पुलिस ग्वालियर से मिली जानकारी के अनुसार फरियादी विनोद गुर्जर पुत्र रामवरन गुर्जर उम्र 28 वर्ष निवासी सेन्थरा बाढ़ई अम्बाह ने 4 मार्च को प्रधानमंत्री सर्जन योजना के तहत दूध डेयरी का 7 लाख रुपए का लोन सेंक्शन कराने के लिए बाबू देवेंद्र गुप्ता को कागज दिए थे। काफी दिन तक चक्कर लगाने के बाद बाबू ने 15 हज़ार रुपए रिश्वत की मांग की और कहा कि 15 हज़ार रुपए दे देना तुम्हरा लोन सेंक्शन हो जाएगा। उसके बाद उद्योग विभाग के बाबू को तीन क़िस्त में करीब 12 हज़ार रुपए दे दिए थे। बाबू देवेंद्र गुप्ता ने शनिवार को 3000 रुपये की मांग की थी जिसकी रिकॉर्डिंग फरियादी विनोद ने मोबाइल में टैप करने के बाद लोकायुक्त की टीम ग्वालियर को दे दी।

ये भी पढ़ें – महिला की हत्या का 24 घंटे में खुलासा, चरित्र संदेह के चलते पति ने दिया घटना को अंजाम

ग्वालियर लोकायुक्त की टीम ने विनोद को जैसे बताया वैसे ही किया। लोकायुक्त की टीम के कुछ सदस्य मंगलवार की दोपहर कमरे के बाहर खड़े रहे उसके बाद फरियादी विनोद ने बाबू को पैसे दिए तो उसने बिना गिने ही अपनी पेंट की जेब में रख लिए। लोकायुक्त की टीम ने बाबू देवेन्द्र गुप्ता को पेंट की जेब में 3000 रुपए रखते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। लोकायुक्त की टीम ने बाबू से कहा कि पेंट की जेब से 3000 रुपये निकालो, जैसे ही लोकायुक्त की टीम ने बाबू की जेब से रुपए निकलवाने के बाद हाथ धुलवाए तो हाथों का रंग लाल हो गया।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : नहीं बदली सोने की कीमत, चांदी में तेजी जारी, जानें ताजा भाव

लोकायुक्त की कार्यवाही के बाद पूरे विभाग में हड़कंप मच गया। देवेंद्र गुप्ता सिर पर हाथ रखकर कुर्सी पर बैठ गए। देखते ही देखते विभाग के सारे कर्मचारी एकत्रित हो गए और लोकायुक्त की टीम के अधिकारियों से पूछने लगे कि क्या हो गया। तब लोकायुक्त के इंस्पेक्टर बृजमोहन सिंह नरवरिया ने बताया कि आपके बाबू को 3000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ लिया है। जिनके खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। इस कार्यवाही में इंस्पेक्टर बृज मोहन नरवरिया, इंस्पेक्टर भरत किरार, इंस्पेक्टर राखी लता नामदेव, इंस्पेक्टर आराधना डेविस, आरक्षक प्रमोद तोमर, हेमंत शर्मा, संजय शुक्ला, धीरज ,विनोद शाक्य और अमर सिंह मौजूद थे।

ये भी पढ़ें – Gwalior News: सिंधिया समर्थक भाजपा नेता पर जानलेवा हमला, फायरिंग कर बदमाश फरार