ग्वालियर, अतुल सक्सेना। फूलबाग चौराहे पर पिछले एक महीने से किसान आंदोलन (Farmers Protest) के समर्थन में जारी धरने पर हमला, हंगामा और उपद्रव मामले में पुलिस ने दोनों पक्षों की शिकायत पर क्रॉस मुकदमा दर्ज किया है। धरने पर बैठे लोगों ने आरोप लगाया है कि उपद्रवियों ने महापुरुषों की तस्वीर फाड़ी, मारपीट की, महिलाओं के साथ अभद्रता की। जबकि दूसरे पक्ष का आरोप है कि वे तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे तभी धरना दे रहे लोगों ने इसका विरोध किया और धक्का मुक्की की। उधर धरना दे रहे लोगों के समर्थन में कांग्रेस मैदान में उतर आई है।

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) के समर्थन में ग्वालियर में फूलबाग चौराहे पर पिछले एक महीने से माकपा (CPIM), अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति (Akhil Bhartiya  Janawadi Mahila Samiti) और किसानों सहित अन्य कई संगठनों के साथ धरने पर है। रविवार को अचानक घटे एक घटनाक्रम में यहाँ दो पक्ष आपस में भिड़ गये। यहाँ बड़ी संख्या में युवकों का एक समूह हाथ में तिरंगा और बैनर लिये आया और राष्ट्रवादी नारे लगाने लगे। इसी दौरान यहाँ किसानों के समर्थन में चल रहे धरने पर बैठे नेताओं से इनका मुँहवाद हो गया। थोड़ी ही देर में मुँहवाद मारपीट और हंगामे में बदल गया।

आरोप है कि युवकों के समूह मे धरने में हंगामा किया, तोड़फोड़ की, महापुरुषों की तस्वीरें फाड़ी, महिलाओं के साथ अभद्रता की। हालांकि धरना दे रहे माकपा नेताओं ने भी हमले का बराबर से जवाब दिया। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला शांत कराया और दोनों पक्षों को पड़ाव थाने ले जाकर मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की जिला सचिव प्रीति सिंह की शिकायत पर प्रवीण चौधरी, नीलेश शर्मा और मनमोहन शर्मा सहित अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है वहीं तिरंगा यात्रा निकाल रहे संगठन की तरफ से भाजपा नेता नीलेश शर्मा की शिकायत पर प्रीति सिंह, आकांक्षा धाकड़, राम बाबू जाटव, हरि सिंह व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

किसानों के समर्थन में उतरी कांग्रेस, माकपा के साथ बैठी धरने पर

ग्वालियर में फूलबाग चौराहे पर किसान आंदोलन के समर्थन में चल रहे धरने पर रविवार को हुए हमले की कांग्रेस ने निंदा की है। किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए आज कांग्रेस नेता धरने में शामिल हुए। धरने में कांग्रेस के जिला कार्यकारी अध्यक्ष महाराज सिंह पटेल, अमर सिंह माहौर, मोहन माहेश्वरी, चतुर्भुज धनेलिया, महिला कांग्रेस अध्यक्ष रुचि राय, युवा कांग्रेस अध्यक्ष हेवरन सिंह कंसाना, पार्टी प्रवक्ता आनंद शर्मा सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए। कांग्रेस के कार्यकारी जिला अध्यक्ष महाराज सिंह पटेल ने कहा कि शांति पूर्ण धरने में जिस तरह से तोडफोड की गई, महापुरुषों की तस्वीर फाड़ी गई, महिलाओं से अभद्रता की गई उससे साफ पता चलता है कि देश में लोकतंत्र को खतरा है। हम पहले भी किसानों के साथ थे और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि धरने में शामिल माकपा नेताओं और किसानों पर हमला हुआ और उनके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज हुआ जिसे तत्काल वापस लिया जाए वरना कांग्रेस उग्र आंदोलन करेगी।

धरने पर हमला मामले में दोनों पक्षों पर क्रॉस मुकदमा, नाराज कांग्रेस हुई धरने में शामिल

अभा जनवादी महिला समिति ने SP को सौंपा ज्ञापन

घटना के बाद पुलिस की कार्रवाई से नाराज अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की जिला सचिव प्रीति सिंह, छात्र नेत्री आकांक्षा धाकड़ ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा। महिला नेत्रियों ने आरोप लगाए कि हंगामा करने आये भाजपा से जुड़े लोगों ने महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया, अश्लील हरकतें की, महापुरुषों का अपमान किया और जब पड़ाव थाने में इसकी शिकायत की तो पुलिस ने राजनैतिक दबाव के चलते उचित धाराओं में केस दर्ज ना करते हुए आरोपियों को बचाने का प्रयास किया है। महिला संगठनों ने एसपी को ज्ञापन सौंपते हुए चेतावनी दी कि यदि पुलिस ने उचित कार्रवाई नहीं की आने वाले समय में तमाम महिला संगठन उग्र आंदोलन करेंगे।