बाढ़ के बाद अब पीड़ितों के बीच सर्वे करना बना चुनौती, टीम से मारपीट और विवाद

डबरा,सलिल श्रीवास्तव। ग्वालियर शिवपुरी संभाग में भारी बारिश के बाद बाढ़ से प्रभावित लोगों में खासी नाराज़गी है। बाढ़ पीड़ित इस बात से नाराज है कि उन्हें जो मदद मिलनी चाहिए थी वो नही मिली और नुकसान ज्यादा हुआ लेकिन मुआवज़ा कम दिया जा रहा। शुक्रवार को कुछ इसी तरह की नाराजगी सर्वे दल को झेलनी पड़ी।भितरवार के मोहनगढ़ में बाढ़ पीड़ितों के बीच पहुंचे सर्वे दल से ग्रामीणों का विवाद हो गया, इस दौरान जमकर झूमा झटकी भी हुई है, पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, फिलहाल अधिकारी मारपीट जैसी घटना से इंकार कर रहे हैं।

मायके से पत्नी को घर ले जाने पर हुआ विवाद तो पति ने 60 फीट की टंकी पर चढ़कर लगा दी छलांग

बीते दिनों आई बाढ़ से भितरवार क्षेत्र के कई गांव प्रभावित हुए हैं, जिनमें मोहनगढ़ भी प्रमुख रूप से शामिल रहा है, अधिकारियों को मुख्यमंत्री के स्पष्ट निर्देश हैं कि सर्वे कार्य में किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही नहीं होनी चाहिए साथ ही ग्रामीणों को हर संभव मदद उपलब्ध कराई जाए यही कारण है कि अधिकारी ग्रामीणों के बीच पहुंच रहे हैं और उन्हें उनके नुकसान का मुआवजा दिलाने की कोशिश में भी जुटे हैं,विवाद की यह घटना हुई उस समय सर्वे दल मोहनगढ़ पहुंचा था और राशन सामग्री वितरित कर रहा था इसी दौरान गोली मोहल्ले में जब लोगों ने राहत सामग्री की मांग की जिस पर अधिकारियों का और ग्रामीणों का विवाद हो गया और झूमा झटकी और गाली गलौच की नौबत या गई, सर्वे दल में नायब तहसीलदार कमल सिंह कोली,राजस्व निरीक्षक सुरेश नागर,पटवारी विकास राठौर, कैप्टन शाक्य शामिल थे, फ़िलहाल अधिकारी मारपीट जैसी घटना से इंकार कर रहे हैं पर जो वीडियो वायरल हो रहा है उससे स्पष्ट अंदाजा लगाया जा सकता है कि अधिकारियों को किस तरह के आक्रोश का शिकार होना पड़ा कुल मिलाकर इतना तो तय है कि अधिकारी समय दुविधा में है, कि वह करे तो क्या करें सर्वे दल यदि सही से सर्वे नहीं करते तो मुख्यमंत्री के आदेश की अवहेलना होगी और सर्वे के दौरान इस तरह की घटनाओं का उन्हें सामना करना पड़ रहा है।