Dabra News : मंत्री तुलसीराम सिलावट ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, ग्रामीणों ने किया काफिले का घेराव

दौरे के दौरान ग्राम विर्राट पर प्रभारी मंत्री को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। जहां सड़क पर महिलाएं और पुरुष आ गए। और उन्हें अपने साथ अपने ग्राम ले जाने की जिद पर अड़ गए।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। मप्र (MP) के जल संसाधन एवं ग्वालियर जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट (Tulsiram Silavat) आज डबरा (Dabra) एवं भितरवार (Bhitarwar) के बाढ़ प्रभावित गांव में पहुंचे। जहां उन्होंने लोगों को शासन द्वारा बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। वहीं सीएम की मंशा अनुसार कल से प्रत्येक परिवार को 50 किलो खाद्यान्न देने की बात भी कही।

यह भी पढ़ें…WhatsApp के नए फीचर में जानिए क्या है खास, इसे कैसे करें इस्तेमाल

विर्राट गांव की जनता ने किया घेराव
दौरे के दौरान ग्राम विर्राट पर प्रभारी मंत्री को ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। जहां सड़क पर महिलाएं और पुरुष आ गए। और उन्हें अपने साथ अपने ग्राम ले जाने की जिद पर अड़ गए। इस दौरान ग्रामीणों की पुलिस से काफी बहस हुई। बाद में प्रभारी मंत्री के समझाने पर और डिप्टी कलेक्टर के निरीक्षण करने के आश्वासन पर ग्रामीण माने तब जाकर उनका काफिला आगे बढ़ सका।

आपको बता दें कि डबरा और भितरवार अंचल में सिंध और पार्वती नदी के किनारे बसे आधे सैकड़ा गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। और पिछले 3 दिन से ग्रामीण नदी के बीच में फसे रहे जिन्हें प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। तभी से ग्रामीण सड़क पर सोने को मजबूर है। आज जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, पूर्व मंत्री इमरती देवी सुमन डबरा के कई गांव में पहुंचे। जहां उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में ग्रामीणों की समस्याएं सुनी और उन्हें शासन द्वारा समुचित व्यवस्थाएं और राशन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। बाद में वो लिधौरा गांव पहुंचे। जहां उन्होंने पानी के तेज बहाव से बहे। लाँच लिधौरा पुल का निरीक्षण किया और साफ तौर पर कहा कि इस लापरवाही के लिए जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की बात कही।

दोषियों पर होगी कार्रवाई
तुलसीराम सिलावट ने कहा कि प्राकृतिक आपदा के दौर में सरकार ग्रामीणों के साथ हैं। लोगों को समुचित संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे कल से उन्हें सीएम की मंशा अनुसार 50 किलो राशन उपलब्ध कराया जाएगा जो ब्रिज टूटा है। उसमें जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी ।

पूर्व मंत्री इमरती देवी ने कहा कि हमारे क्षेत्र के ग्रामीण इस प्राकृतिक आपदा के दौर में काफी परेशान है। मैं पिछले 3 दिन से अपनी जनता के बीच उनके साथ हूं। जहां तक मेरी सामर्थ्य है उनके लिए भोजन की व्यवस्था करवा रही हूं। साथ ही मुख्यमंत्री से भी बात की है वह उनके लिए पर्याप्त संसाधन सरकार की तरफ से उपलब्ध करायेंगे।

यह भी पढ़ें…पीएम नरेंद्र मोदी ने फोन करके कप्तान मनप्रीत और पूरी हॉकी टीम को दी बधाई