Dabra : वैक्सीनेशन कैंपों में दोपहर दो बजे वैक्सीन खत्म, मायूस होकर लौटे सैंकड़ों लोग

डबरा (Dabra) में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही देखने को मिली। जहां अधिकारियों ने चार जगह कैंप लगा दिए पर सभी जगह दोपहर 2:00 बजे ही दवाई खत्म हो गई। जिसके कारण कई लोगों को बिना वैक्सीनेशन के ही मायूस होकर घर लौटना पड़ा।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। मप्र (MP) में वैक्सीनेशन के लिए प्रशासन लगातार लोगों को जागरूक कर रहा है। और वैक्सीनेशन (vaccination) के लिए प्रेरित भी कर रहा है। यही कारण रहा है कि लोगों में अब वैक्सीनेशन कराने के लिए उत्साह देखने को मिल रहा है। लेकिन आज डबरा (Dabra) में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही देखने को मिली। जहां अधिकारियों ने चार जगह कैंप लगा दिए पर सभी जगह दोपहर 2:00 बजे ही दवाई खत्म हो गई। जिसके कारण कई लोगों को बिना वैक्सीनेशन के ही मायूस होकर घर लौटना पड़ा।

यह भी पढ़ें…National Doctors Day : अशोकनगर में लायंस क्लब ने डॉक्टर्स का किया सम्मान

आपको बता दें कि आज डबरा में भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी के तत्वधान में अलग-अलग समाज के लोगों द्वारा अलग-अलग जगह वैक्सीनेशन कैंप आयोजित किए गए थे। जिसके लिए गहोई वैश्य महासभा एवं नवयुवक मंडल, माहौर गवर्रे वैश्य समाज, जेसीआई क्लब एवं राम बाल बिहार स्कूल में कैंप लगाए गए थे। सभी ने अधिक से अधिक वैक्सीनेशन के लिए लोगों से संपर्क किया और लोगों को प्रेरित भी किया। जिसका नतीजा यह हुआ कि सुबह से ही सभी कैंपों पर भीड़ लग गई। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही यह रही कि सभी जगह दवाई दोपहर 2:00 बजे तक पूरी तरह समाप्त हो गई। कैंप संचालकों को लोगों को वापस भेजना पड़ा। सबसे बड़ी बात यह रही कि लोग भरी दुपहरी में कैंपों पर पहुंचे और उन्हें वहां दवाई नहीं मिली।

टुकड़ों में मिले टीके
गहोई वैश्य महासभा के पंकज सांवला ने बताया कि हमें पहले सिर्फ दो सौ डोज़ दवा दी गई। जो दोपहर 11:30 बजे ही समाप्त हो गई थी। बाद में सिर्फ 75 डोज़ और मिले जो 1:00 बजे समाप्त हो गए। इस दौरान लगभग 2 सैकड़ा से अधिक लोग हमारे कैंप से बिना वैक्सीनेशन के वापस लौटे। यही हाल कमोवेश 3 अन्य कैंपों का भी रहा। जब इस संबंध में वैक्सीनेशन की जिम्मेदारी संभाल रहे स्वास्थ्य विभाग के आरके गुप्ता से बात की उनका कहना था कि यह बात सही है कि सभी जगह दवा कम पड़ी और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हमारे पास 6 हजार डोज़ दवा आई थी। जिसमें से लगभग 2 हजार डोज़ डबरा के लिए रखे थे, पर वह भी कम पड़ गए। इस मामले में आगे से ध्यान रखा जाएगा कि लोगों को परेशानी ना हो।

यह भी पढ़ें…प्रदेश में लहराया ग्वालियर जिला पंचायत का परचम, योजनाओं के क्रियान्वयन में मिली उपलब्धि

यहां गौर करने वाली बात यह है कि डबरा एसडीएम प्रदीप शर्मा लगातार प्रयासरत है कि अधिक से अधिक लोग वैक्सीनेशन कराएं। इसके लिए वह सामाजिक लोगों से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं और लोगों से कैंप लगाकर लोगों को दवा लगवाने के लिए प्रेरित करने की बात कह रहे हैं। इसी का नतीजा यह रहा कि डबरा में अब तक सभी सामाजिक बंधुओं और सामाजिक संस्थाओं द्वारा लगातार वैक्सीनेशन हेतु कैंप लगाए जा रहे हैं। पर स्वास्थ्य विभाग है कि इतना सब होने के बावजूद भी लापरवाह बना हुआ है। अधिकारियों को चाहिए कि दवा के हिसाब से ही कैंप लगवाएं या तो कैंपों की संख्या सीमित रखें या फिर उनके समय को कम रखा जाए। आज लगने बाले कैंपों में समय सुबह 9:30 से 5:00 तक रखा गया और दबा दोपहर 2:00 बजे तक ही खत्म हो गई। इसलिए प्रशासन को चाहिए कि कैंपों का समय दोपहर 2:00 बजे तक किया जाए ताकि भरी दोपहर में दूरदराज से आने वाले लोगों को मायूस होकर वापस ना लौटना पड़े।