बाढ़ पीड़ितों के साथ विधायक सुरेश राजे ने किया एसडीएम कार्यालय का घेराव, सरकार को दी ये चेतावनी

बाढ़ पीड़ितों ने सर्वे दल पर फर्जी सर्वे करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि अपने चाहतों को सूची में जोड़ा गया है और अभी तक हमें रहने की प्रशासन की ओर से कोई सुविधा नहीं की गई है।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। ग्वालियर जिले (Gwalior District) के डबरा (Dabra) एवं भितरवार (Bhitarwar) में आई बाढ़ (flood ) को एक महीना होने को है। लेकिन अभी तक कई गांव ऐसे हैं जहां अभी भी लोग खुले आसमान में रहने को मजबूर हैं। जिससे गुस्साए करीब दो दर्जन से अधिक गांव के बाढ़ पीड़ितों के साथ विधायक सुरेश राजे (MLA Suresh Raje) ने एसडीएम कार्यालय का घेराव किया। बाढ़ पीड़ितों ने सर्वे दल पर फर्जी सर्वे करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि अपने चाहतों को सूची में जोड़ा गया है और अभी तक हमें रहने की प्रशासन की ओर से कोई सुविधा नहीं की गई है, केवल हमें एक आटे का कट्टा और एक मड़ैया पर डालने के लिए पन्नी दे दी गई है, और कुछ नहीं पटवारी पर रिश्वत लेने के आरोप भी लगाए।

यह भी पढ़ें…Jabalpur Accident : पिकअप और बाइक की जोरदार भिड़ंत, 1 की मौत, दो गंभीर घायल

डबरा विधायक सुरेश राजे (Dabra MLA Suresh Raje) ने मध्य प्रदेश सरकार द्वारा आवास के चेक वितरित किए जाने पर तंज कसते हुए कहा कि यहां कुछ नहीं है यह केवल फोटो सेशन के लिए है और अब इनकी नजर आने वाले नगरपालिका चुनाव (municipal elections) पर है। आने वाले समय में जनता जनार्दन यह नकली सरकार को उखाड़ फेंकेगी। सरकार को जब समझ में आएगा कि गरीब का पेट काटने का क्या नतीजा होता है और यदि 2 दिन में बाढ़ पीड़ितों की सुनवाई नहीं हुई तो कांग्रेस के द्वारा उग्र प्रदर्शन किया जाएगा।

इस मामले में एसडीएम प्रदीप शर्मा का कहना है डबरा अनुबिभाग में बाढ़ आपदा के कारण कई गांव बाढ़ ग्रसित है। जिनका सर्वे कर लिया गया है और जो भी रह गए हैं उनका सर्वे किया जा रहा है। लेकिन आज कुछ गांव के बाढ़ पीड़ितों के आवेदन मिले हैं जिनके आधार पर सर्वे टीम के द्वारा सर्वे किया जाएगा और जो पात्र होंगे उन्हें निश्चित है सूची में जोड़ा जाएगा और जो भी शासन के द्वारा सुविधा दी जा रही है वह दी जाएगी ।

यह भी पढ़ें… इंदौर बायपास को लेकर विवाद, जमीन मालिकों ने सरकार पर उठाए सवाल, कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन