नेता प्रतिपक्ष का दावा, “ऐसा हुआ तो सात दिन में गिर जायेगी कांग्रेस सरकार”

bjp-leader-gopal-bhargava-claims-if-modi-become-again-pm-than-kamal-nath-government-will-fall-in-7-days

दमोह। मध्य प्रदेश में 15 साल बाद सत्ता परिवर्तन हुआ है और कांग्रेस सरकार को एक माह पूरा हो गया है| लेकिन भाजपा नेताओं की और से लगातार सरकार की अस्थिरता को लेकर सवाल उठाये जा रहे हैं| क्यूंकि सहयोगियों के समर्थन से कांग्रेस ने सरकार बनाई है| नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने एक बार फिर सरकार गिरने का दावा किया है। भार्गव का कहना है कि देश में भाजपा की सरकार बनी और मोदी फिर PM बने तो सात दिन में कमलनाथ सरकार गिर जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि मैने कांग्रेस सरकार की कुंडली कुंभ में ज्योतिषियों को दिखाई है। ज्योतिषों का कहना है कि सरकार की कुंडली ठीक नही है, ज्यादा दिन नही चलेगी।

दरअसल, नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद गोपाल भार्गव आज गुरुवार को पहली बार दमोह पहुंचे थे, जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर जमकर हमला बोला और दावा किया कि अगर इस बार फिर नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो सात दिन के भीतर ही सूबे में कांग्रेस की सरकार गिर जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि मैने कुंभ में नई सरकार की कुंडली दिखाई है, ज्योतिषों का कहना है कि सरकार की कुंडली ठीक नही, जैसे बीमार बच्चे का भरोसा नही ऐसे सरकार का कोई भरोसा नही कब गिर जाएगी। ये सरकार थोड़े दिनों की है, ज्यादा दिन नही चलेगी। वही भार्गव ने कहा कि कांग्रेस में इतनी ताकत नहीं थी कि वो चुनाव जीत पाती। कुछ नेताओं ने ही पार्टी के खिलाफ काम किया। पार्टी मां की तरह होती है। ऐसे में उन लोगों ने मां के साथ विश्वासघात किया है। उन्होंने कहा कि जब तक मध्यप्रदेश में भाजपा के सिपाही है तब तक जनता को यूं लूटने नही देंगें, हमेशा जनता के रक्षक के रुप में ढाल बनकर खड़े रहेंगें।

पहले भी कर चुके है दावा

इससे पहले गोपाल भार्गव ने सागर में भी दावा किया था क मध्यप्रदेश के मंत्रियों के बंगलों का रंगरोगन होने से पहले राज्य की कांग्रेस सरकार गिर जाएगी। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा था कि प्रदेश में अल्पमत की सरकार है, यह जुगाड़ वाली सरकार है। यह सरकार उस मानव शरीर जैसी है जिसमें गुर्दे दूसरे के, हृदय दूसरे का, लिवर दूसरे का है। इस तरह की सरकार ज्यादा दिन नहीं चलती, टिकाऊ नहीं होती।उन्होंने सरकार की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा था कि इस सरकार के पास बहुमत नहीं है, यह सरकार ज्यादा दिन नहीं चलने वाली। जब तक नए मंत्रियों के बंगलों की पुताई चलेगी, तब तक यह सरकार गिर जाएगी।