दिग्विजय के ट्वीट के बाद BSP विधायक रामबाई के पति ने दी सफाई

दमोह।गणेश अग्रवाल।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के ट्वीट के बाद राजनीतिक हलकों में हड़कंप के हालात हैं. तो वहीं दमोह जिले के पथरिया की दबंग विधायक रामबाई सिंह के पति गोविंद सिंह का कहना है कि रामबाई सिंह अपने बच्ची के इलाज कराने के लिए दिल्ली गई हुई है. किसी भी तरह के अटकलों पर कोई ध्यान ना दें यह सब अफवाह है.

दरअसल, दमोह जिले की पथरिया की दबंग विधायक रामबाई सिंह हमेशा ही सुर्खियों में रहती है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय ने ट्वीट कर कहा कि रामबाई सिंह को भाजपा सरकार के गृह मंत्री रहे भूपेश सिंह चार्टर प्लेन से दिल्ली लेकर के गए हैं. उन्होंने सत्ता परिवर्तन की अटकलें लगाने के साथ ही रामबाई सिंह पर विश्वास भी जताया. लेकिन रामबाई सिंह की कोई लोकेशन नहीं मिलने की जानकारी के बाद जब दमोह स्थित आवास पर पहुंचे, तो वहां पर मौजूद रामबाई सिंह के पति गोविंद सिंह का कहना है कि राम बाई सिंह अपनी बेटी के इलाज के लिए दिल्ली गई हुई है. उनकी बेटी दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ती है और बीमार होने के कारण वे उसका इलाज कराने के लिए दिल्ली गई है. उन्होंने यह भी कहा कि यदि दिल्ली जाते समय भूपेंद्र सिंह उनको प्लेन में मिल भी गए तो इसका यह मतलब नहीं कि इस तरह की अटकलें लगाई जाए. गोविंद सिंह ने बताया कि रामबाई कल तक दमोह आ जाएंगी. उन्होंने कमलनाथ सरकार पर पूरी तरह से विश्वास जताते हुए किसी भी अफवाह में नहीं आने की बात कही.

ये है पूरा मामला

आज सुबह दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर लिखा है कि बीजेपी (bjp) ने समाजवादी पार्टी (samajwadi party) और बसपा (bsp) के विधायकों को दिल्ली लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। बसपा की विधायक राम बाई (rambai) को भाजपा के पूर्व मंत्री भूपेंद्र सिंह (bhupendra singh) कल चार्टर्ड फ्लाइट से भोपाल से दिल्ली लाए हैं ।शिवराज जी कुछ कहना चाहेंगे। दिग्विजय ने आगे लिखा है लेकिन हमें श्रीमती रामबाई पर पूरा भरोसा है ।वह कमलनाथ जी की प्रशंसक हैं और उनका समर्थन करती रहेंगी। इससे पहले सोमवार को संसद परिसर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दिग्विजय सिंह ने खुलासा किया था कि बीजेपी के दो बड़े नेता शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) और नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) सरकार गिराने की कोशिश कर रहे हैं और इन दोनों ने कई कांग्रेसी विधायकों को 25 से 30 करोङ रू तक का ऑफर दिया है।