दमोह में कन्यादान योजना में गड़बड़ी की शिकायतें, देर रात तक दहेज का सामान चेक करते रहे कमिश्नर

Damoh News : मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में लगातार गड़बड़ी की शिकायतें आ रही है। जिसपर खुद मुख्यमंत्री भी नाराजगी जता चुके हैं लेकिन फिर भी हालात सुधर नहीं रहे। इसी कड़ी में बीते 9 दिसंबर को दमोह में इस योजना के तहत विवाह आयोजन में फिर गड़बड़ी हुई और शादियों में दिए जाने वाले दहेज के घटिया होने की शिकायतें आती रही। लोगो ने प्रशासन को इसकी शिकायत की लेकिन जिम्मेदार खामोश रहे।

दोषियों पर होगी कार्रवाई

जिसके बाद मामले में खुद मुख्यमंत्री ने अपने संज्ञान में लेकर कलेक्टर को फटकार लगाई। तब जाकर कमिश्नर ने तत्काल मीटिंग ला और देर रात तक कमिश्नर की मौजूदगी में कलेक्टर के मीटिंग हाल में दहेज का सामान लाया गया। कमिश्नर ने पलंग, बर्तन, पंखा सब चेक किया और फिर दोषियों पर कार्रवाई करने का भी आश्वासन दिया।

तत्काल जांच के आदेश

दरअसल, 9 तारीख को दमोह के गल्ला मंडी में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह कार्य्रकम किया गया। इसमें दिए जाने वाले उपहार की क्वालिटी पर सवाल उठाए और इसकी शिकायत लोगों ने प्रशासन से की। बता दें कि रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह दमोह के दौरे पर थे, जहां लोगों ने इस मामले की शिकायत की। जिसके बाद सीएम ने मौके पर ही कमिश्नर कलेक्टर को तलब किया और जमकर फटकार लगाई और तत्काल ही जांच के आदेश दिए।

सीएम के आदेश का किया पालन

वहीं, सीएम के आदेश का पालन करते हुए कमिश्नर ने कलेक्ट्रेट के मीटिंग हाल में तमाम अधिकरियों और आयोजन करने वाली समितियों को बुलाया। जहां दहेज या उपहार में दिए गए तमाम सामान और सप्लाई से पहले दिए गए सेम्पल को मंगाया गया और फिर खुद कमिश्नर ने एक एक सामान की जांच पड़ताल की। देर रात तक चली जांच पड़ताल के बाद कमिश्रर ने कुछ चीजों में गड़बड़ी पाई। जिसके बाद मामले में जिम्मेदार दो जनपद पंचायतों के CEO के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए।

कमिश्नर ने दी जानकारी

मुकेश शुक्ला कमिश्नर सागर संभाग ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में लगातार गड़बड़ी की शिकायतें आ रही थी। सामान में गड़बड़ी भी पाई गई है। ऐसे में मामले की जांच-पड़ताल की जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसपर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दमोह से आशीष कुमार जैन की रिपोर्ट