Damoh news : तालाब में मर रही मछलियों की बदबू से लोगों का जीना दूभर

घनी आबादी के रिहायशी इलाके में बने इस तालाब में जब मछलियां मरना शुरू हुई तो लोगों ने इसकी शिकायत नगर पालिका में भी कर दी। इसके बावजूद आज चार दिन बीत जाने के बाद भी यहां पर अभी तक कोई नही पहुंचा है और इस दौरान लोगों का बदबू से जीना मुहाल हो गया है।

दमोह, आशीष कुमार जैन। दमोह जिले से हैरान कर देने वाली खबर आ रही है। दरअसल यहाँ के तालाबों का पानी इतना गन्दा हो गया है कि यहाँ रहने वाले लोगों का जीना दूभर हो गया है। आपको बता दें कि दमोह जिले के अलग अलग तालाबों से पिछले एक महीने से मछलियों के मरने की खबर आ रही है। वर्तमान समय में यह हालत इतनी गंभीर हो गयी है कि यह चिंता का विषय बन गयी है।

Read More: Sonam Kapoor प्रेगनेंसी के टाइम खुद को ऐसे रख रही फिट, घर का सादा खाना और जमकर बहा रही पसीना

दमोह शहर के मुकेश कालोनी के पास बने तालाब में बीते चार दिनों से लगातार मछलियों के मरने के बाद से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है। इस घनी आबादी के रिहायशी इलाके में बने इस तालाब में जब मछलियां मरना शुरू हुई तो लोगों ने इसकी शिकायत नगर पालिका में भी कर दी। इसके बावजूद आज चार दिन बीत जाने के बाद भी यहां पर अभी तक कोई नही पहुंचा है और इस दौरान लोगों का बदबू से जीना मुहाल हो गया है।

Read More: Boiled Egg Benefits: रोजाना सही समय पर खाया गया सिर्फ 1 अंडा, आंखों और हड्डियों के साथ शरीर के लिए है फायदेमंद

लोगों ने बताया कि तालाब से आ रही बदबू की वजह से रहवासी बीमार पड़ रहे है। इस जानकारी के बाद यहाँ पहुंचे मीडिया कर्मियों ने नगर पालिका के अधिकरियो से संपर्क किया तो अफसरों ने आनन फानन में एक टीम यहां भेज दी। जिसके बाद टीम ने यहाँ से मरी हुई मछलियों को बाहर निकाला है। अधिकारीयों का मानना है कि तालाब में मर रही मछलियों की मौत की वजह तालाब में नालियों का गंदा पानी भी हो सकता है।

Read More: Mandi Bhav: 09 जुलाई 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

खुद नगर पालिका ने इस तालाब में वार्ड की नालियां जोड़ रखी हैं और सारा गंदा पानी इसी तालाब में जाकर मिलता है। वहीं तालाब से लगा हुआ सरकारी स्कूल भी है। जहां मासूम बच्चे रोजाना पढ़ने आते हैं एवं इस गंदगी से उनकी सेहत पर भी असर पड़ रहा है। इलाके में ये पहला मौका नही है, जब तालाबो में मछलियां मरी हैं, बल्कि बीते हफ्ते जबेरा के ग्रामीण इलाकों के साथ पथरिया और बटियागढ़ अंचल से भी तालाबो में मछलियां मरने की खबरे आई थी। जिस वजह से चिंता बढ़ना लाज़मी है।