VIDEO : लोकायुक्त का शिकंजा, कृषि विभाग का अधिकारी रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार

Lokayukta's-big-action

दमोह।

मध्यप्रदेश के दमोह जिले में लोकायुक्त टीम ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। यहां टीम ने एक अधिकारी को रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। आरोप है कि अधिकारी ने युवाओं से रिपोर्ट के बदले रिश्वत की मांग की थी। यह कार्रवाई सागल लोकायुक्त टीम द्वारा की गई है।  टीम ने आरोपी अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की है।फिलहाल टीम की कार्रवाई जारी है। इससे पहले टीम ने हटा नगरपालिका के इंजीनियर को 60 हजार की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया था।

जानकारी के अनुसार, दमोह जिले की तेंदूखेड़ा क्षेत्र में पदस्थ कृषि विस्तार अधिकारी मनधाती कुम्हार ने मृदा परीक्षण का कलेक्शन करने वाले युवा कृष्ण कुमार घोसी, मनीष साहू और आकाश केवट से रिपोर्ट देने के बदले पांच हजार की रिश्वत की मांग की थी। जिसकी शिकायत युवाओं ने सागर लोकायुक्त टीम से की थी।टीम ने आज मंगलवार को योजना बनाकर अधिकारी के ठिकाने पर दबिश दी और रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया ।

दरअसल, इन युवाओं को मृदा परीक्षण का सैंपल एकत्रित करने के बदले प्रति सैंपल मात्र 19 रुपए मिलता था जिनकी रिपोर्ट तैयार करने के बदले कृषि विस्तार अधिकारी ने पांच हजार की मांग की थी शिकायत के बाद सागर लोकायुक्त टीम प्रभारी टीआई बीएन द्विवेदी ने स्टॉफ के साथ जाकर किराए के मकान में रहने वाले कृषि विस्तार अधिकारी को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। गिरफ्तार करने की बात तेंदूखेड़ा पुलिस थाने में शेष कार्रवाई की जा रही है।इससे पहले लोकायुक्त ने हटा मे ंएक इंजीनियर को रिश्वत लेते हु�� गिरफ्तार किया था।

बता दे कि कृषि विभाग द्वारा किसानों को मिट्टी के परीक्षण की सुविधा दी गई है।जिसके तहत मानदेय पर युवक गांव गांव घूम कर मिट्टी की सैंपलिंग करते है और लैब में जाकर परीक्षण करते है। जिसके बदले शासन द्वारा इन्हें निर्धारित राशि प्रदान की जाती है।इस मानदेय भुगतान के बदले अधिकारी युवाओं से दो दो हजार की रिश्वत मांग रहा था।जिसकी शिकायत युवाओं ने लोकायुक्त से की और रंगेहाथों गिरफ्तार करवा दिया।कार्रवाई के बाद से ही शहर में हड़कंप की स्थिति है।