सिंधिया का कटाक्ष- ‘मध्यप्रदेश में सौदेबाजी की जोड़ी नंबर वन है कमलनाथ-दिग्विजय’

scindia
scindia

दमोह डेस्क रिपोर्ट। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को कांग्रेस के नेताओं पर जमकर हमला बोला। सिंधिया दमोह के एक गांव में बीजेपी के पक्ष में चुनाव प्रचार करने पहुंचे थे। उन्होंने दिग्विजय और कमलनाथ को लेकर कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकार पर तंज कसा ।

कोरोना कर्फ्यू के विरोध में एकजुट हुए व्यापारी, बोले-बिना चर्चा फैसला स्वीकार नहीं

दमोह विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के प्रत्याशी राहुल लोधी के समर्थन में प्रचार करने ज्योतिरादित्य सिंधिया दमोह पहुंचे। उन्होंने दमोह के लक्ष्मण कुटी गांव में जनसभा को संबोधित किया और कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी का नारा है प्राण जाए पर वचन न जाए लेकिन कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी जो मध्य प्रदेश में नंबर वन थी उसका नारा था जान न जाए चाहे वचन चला जाए। उन्होंने चुटीले अंदाज में कहा कि जब चुनाव होते हैं तो विदेशी पक्षी की तरह कमलनाथ और दिग्विजय टपक टपक के आते हैं। आप लोगों के बीच में दुहाई देते हैं और सौदेबाजी की बात करते हैं।

सीएम ने ऑक्सीजन टैंकर को इमरजेंसी सेवा घोषित किया, कहा- कोई कमी नहीं होने दी जाएगी

उन्होंने कहा कि बीजेपी के प्रत्याशी राहुल लोधी को कांग्रेस सौदेबाज कह रही है जबकि सौदेबाजी का सबसे बड़ा उदाहरण कमलनाथ और दिग्विजय सिंह जी हैं जोड़ी नंबर वन।मध्य प्रदेश के 2018 में कहा गया था किसान का कर्जा माफ होगा, नहीं हुआ। बिजली का बिल हाफ होगा ,नहीं हुआ। अपनी जेब भरने के सिवाय कांग्रेस के नेताओं ने कुछ नहीं किया। वल्लभ भवन को व्यापारी और भ्रष्टाचारियों का अड्डा बना दिया था। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश किसानों का प्रदेश है ,नौजवानों का प्रदेश है और इस प्रदेश को भ्रष्टाचारियों का केंद्र दिग्विजय और कमलनाथ ने बना दिया ।उन्होंने कहा कि हम तो चाहते थे कि दमोह में उद्योग लगे लेकिन एक भी उद्योग यहां पर नहीं लगा उल्टा मध्यप्रदेश में एक नया उद्योग शुरू हो गया ‘ट्रांसफर उद्योग’।पटवारी का ट्रांसफर, तहसीलदार का ट्रांसफर ,एसडीम का ट्रांसफर, एसपी या कलेक्टर का ट्रांसफर, हर ट्रांसफर में पैसे लगते थे। उन्होंने जनता से आह्वान किया कि वे राहुल लोधी को भारी मतों से विजयी बनाएं ताकि दमोह में विकास का एक नया अध्याय लिखा जा सके।