धमकी देने वालों को दिया चैलेंज, तहसील ग्राउंड पर बंदूक लेकर पहुंचा सब इंजीनियर

दमोह| मध्य प्रदेश के दमोह में तब सब चौंक गए जब सीएमएचओ कार्यालय के निर्माण शाखा में पदस्थ सब इंजीनियर अभिषेक चतुर्वेदी बंदूक लेकर स्थानीय तहसील ग्राउंड पहुंचे और दोपहर करीब 12 बजे तक मैदान के मंच पर घूमते रहे। उन्होंने ऐसा अपने विरोधियों की धमकी का जवाब देने के लिए किया| हालाँकि इस तरह बन्दूक लेकर घूमना क्या सही है इसको लेकर सवाल खड़े होने लगे तो इस पर उनका कहना था कि भगवान राम ने भी धर्म युद्ध के लिए हथियार उठाया था और यह भी धर्म युद्ध ही है।

दरअसल, तथाकथित नेता ठेकेदारों की धमकी का जवाब देने के लिए सब इंजीनियर ने कुछ अलग ही ढंग से प्रदर्शन किया। रविवार को उपयंत्री अभिषेक चतुर्वेदी अपनी लाइसेंसी बंदूक लेकर गाड़ी से सुबह 9 बजे तहसील ग्राउंड पर पहुंचे और चबूतरे पर बैठकर धरना शुरू कर दिया। दोपहर 12 बजे तक तीन घंटे वे धरने पर बैठे रहे और धमकी देने वालों का इंतजार करते रहे, लेकिन जब कोई नहीं पहुंचा तो उन्होंने धरना समाप्त कर दिया।

बदूक लेकर घूमने की चर्चा दिन भर शहर में होती रही| इस पर सब इंजीनियर ने बताया कि उसके विभाग के निर्माण कार्य करने वाले कुछ लोग अपनी मर्जी से काम करना चाहते हैं, लेकिन वह शासन के नियमों का पालन कराने के लिए कहते हैं। ये तरीका ठेकेदार व उनके साथियों को पसंद नहीं और इसलिए वह उन्हें बार-बार धमकी देते हैं। इसलिए उन्होंने तय किया कि विरोधियों को वह एक मौका देंगे।  

चतुर्वेदी का यह भी कहना है कि वह किसी के दबाव में नहीं आएंगे न ही डरकर गलत कार्य का सपोर्ट करेंगे।  उन्होंने धमकी देने वालो को चैलेंज दिया था कि जिसको जो करना है वह तहसील ग्राउंड पर आकर उनसे निपट ले, लेकिन यहां कोई नहीं आया। उधर, एसपी विवेक सिंह ने कहा कि ऐसा करने का किसी को अधिकार नहीं है। उन्हें कोई शिकायत थी तो वह अपने वरिष्ठ अधिकारियों से कहते या पुलिस में शिकायत करते। बंदूक लेकर घूमना गलत है। मामले में कार्रवाई करेंगे।