सामने आया सिस्टम का अमानवीय चेहरा, इलाज के अभाव में बुजुर्ग की निकली जान पड़े कीड़े

दमोह, आशीष कुमार जैन। दमोह से एक दिल दहला देने के साथ साथ अमानवीयता से भरी घटना सामने आई है जहां जिला अस्पताल परिसर में एक वृद्ध दो दिनों तक इलाज के लिए तड़पता रहा और जब इलाज नही मिला तो वृद्ध ने दम तोड़ दिया , हद तो तब हो गई जब अस्पताल प्रबंधन और पुलिस भी वृद्ध के शव का अंतिम संस्कार नहीं कर पाए और शव में कीड़े पड़ गए और अवारा जानवर लाश को हानि पहुंचाते रहे। दरअसल दो दिनों से एक अज्ञात वृद्ध जिला अस्पताल परिसर में पड़ा था जिसे इलाज की दरकार थी और उसे इलाज मयस्सर नही हों पाया।

दीपावली के तुरंत बाद लगेगी पंचायत चुनावों के लिए आचार संहिता! तीन चरणों में होंगे चुनाव

गुरुवार को लोगों में देखा तो वृद्ध के शरीर मे कीड़े पड़ चुके थे और अस्पताल परिसर के आवारा पशु उसको खींचने की कोशिश कर रहे थे जब जांच पड़ताल हुई तो मालूम चला कि उसने दुनिया को अलविदा कह दिया है जिसके बाद हड़कम्प मच गया। इस मामले में हैरान करने वाली बात ये है कि दो दिनों से अस्पताल परिसर में पड़े वृद्ध की जानकारी जिला अस्पताल की सिविल सर्जन ममता तिमोरी को भी थी जब उनसे पूंछा गया तो डॉ तिमोरी का कहना है कि वो खुद वृद्ध के पास गई थी और पुलिस को भी अज्ञात वृद्ध के बारे में सूचना की थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नही की जिस वजह से वृद्ध को इलाज नही मिल पाया।हालांकि महिला चिकित्सक का यह बयान हैरान करने वाला है कि आखिर उन्होंने वृद्ध का इलाज क्यूँ नहीं किया और किस बात का वह इंतजार करती रही, अमानवीयता से भरे इस मामले में इलाके की पुलिस और अस्पताल प्रबंधन कटघरे में खड़ा है अब जब एक इंसान ने दम तोड़ दिया तब उसके अंतिम संस्कार की दलील जरूर जिम्मेदार दे रहे हैं।