नाराज छात्रों ने किया थाने का घेराव, जमकर हंगामा, मौके पर पुलिस बल

दतिया । सत्येन्द्र रावत।
दतिया (datia) जिले (district) में स्कूली शिक्षा विभाग (school education department) की बड़ी लापरवाही सामने आई है। इंदरगढ़ के मनु भाई स्कूल की लापरवाही से 35 छात्र बोर्ड (board) परीक्षा (exam) देने से वंचित रह गए। परीक्षा देने से बंचित रह गये छात्रो ने इंदरगढ़ थाने में धरना देकर हंगामा किया है ओर स्कूल प्रबंधन पर मामला दर्ज करने की मांग कर रहे है।  इन छात्रों को प्रवेश पत्र नहीं दिया गया था। लंबे समय से साथ में परीक्षा प्रवेश पत्र (admit card) देने की मांग कर रहे थे लेकिन स्कूल एडमिट कार्ड नाराज छात्र थाने पहुंच गए हैं और थाने के सामने धरना दे रहे हैं ।इन छात्रों की समस्या का कोई समाधान नहीं निकल पाया है ।इन कारणों की जांच की जा रही है कि आखिरकार इन छात्रों को परीक्षा प्रवेश पत्र नही दिये गए

 

दरअसल, वर्ष 2020 की मार्च से हाई सेकेंडरी स्कूल की बोर्ड परीक्षा आज शुरू हो गई है। दतिया जिले में एक तरफ हजारो छात्र बोर्ड परीक्षा दे रहे थे, तो वही कुछ छात्र प्राइवेट स्कूल की लापरवाही की बजह से बोर्ड परीक्षा में शामिल नही हो सके और प्रवेश पत्र नही होंने पर परीक्षा देने से बंचित रह गये है। 12वी बोर्ड परीक्षा का सोमवार को सामान्य हिंदी का पेपर था। मामला दतिया जिला मुख्यालय के इंदरगढ़ कस्बे का है। जहां 37 छात्र आज परीक्षा नही दे सके। जिससे सभी छात्रो की साल बर्बाद हो गई है। परीक्षा देने से बंचित रह गये छात्रो ने इंदरगढ़ थाने में धरना देकर हंगामा किया है ओर स्कूल प्रबंधन पर मामला दर्ज करने की मांग कर रहे है।

निजी स्कूल के लगभग तीन दर्जन छात्र हुये 12 वीं बोर्ड परीक्षा से वंचित, निजी स्कूल प्रबंधन ने छात्रों से फीस वसूलने के बावजूद नही भरे इनके फॉर्म, छात्र परीक्षा में बैठने के लिये प्रवेश पत्र के लिये पिछले एक सप्ताह से निजी विद्यालय के लगा रहे थे चक्कर, विद्यालय प्रबंधन छात्रों को करता रहा गुमराह, परीक्षा फॉर्म भरने के ऐवज में प्रति छात्र 5 हजार रूपये की मोटी फीस वसूली है निजी स्कूल ने, इन्दरगढ़ के कामद रोड पर संचालित मनु बाई स्कूल प्रबंधन पर छात्र लगा रहे धोखाधड़ी करने का आरोप, छात्रों ने कहा कि हमारा भविष्य बर्बाद किया गया, स्कूल प्रबंधक हुआ नदारद, थाने पर चार घंटे से बैठे हैं दर्जनों छात्र, छात्रों के परिजन भी पहुंचे इन्दरगढ़ थाना, प्रबंधक के खिलाफ धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज करने की लगे रहे गुहार, फिलहाल मामला दर्ज नही हुआ है।