मध्य प्रदेश के इन कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, रुकेगा वेतन, जानें क्यों?

समय सीमा के अंदर के प्रकरणों का निराकरण न करने पर संबंधित कर्मचारी एवं OIC के वेतन रोकने की कार्यवाही भी की जाएगी।

कर्मचारियों

दतिया, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा दिवाली से पहले 7th Pay Commission के तहत महंगाई भत्ते और राहत में 8 फीसदी बढ़ोतरी के बाद सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़े काम की खबर है। दतिया कलेक्टर (Datia Collector) ने अधिकारियों- कर्मचारियों को सख्त लहजे में कहा है कि समय-सीमा के प्रकरण समय पर निराकरण न करने पर संबंधित कर्मचारियों का वेतन रूकेगा।

MP Corona Update: कोरोना का बड़ा विस्फोट, आज 27 नए पॉजिटिव, इन जिलों में बढ़े केस

न्यू कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में कलेक्ट्रेट की विभिन्न शाखाओं जिले के अनुविभागीय दंडाधिकारी, तहसीलदारों के समय सीमा के लंबित प्रकरणों की समीक्षा के दौरान दतिया कलेक्टर ने अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देश देते हुए कहा कि शासन के मंशा के अनुरूप अपनी कार्य संस्कृति में बदलाव लाते हुए समय सीमा के प्रकरणों को भी गंभीरता से लेते हुए और प्राथमिकता के आधार पर समय सीमा के अंदर आवेदनों के निराकरण की कार्यवाही करें। समय सीमा के अंदर के प्रकरणों का निराकरण न करने पर संबंधित कर्मचारी एवं OIC के वेतन रोकने की कार्यवाही भी की जाएगी।

वही राजस्व एवं कलेक्ट्रेट की विभिन्न शाखाओं में लंबित समय-सीमा के पत्रों की समीक्षा करते हुए दतिया कलेक्टर  संजय कुमार ने  संबंधित शाखा प्रभारी एवं कर्मचारी को निर्देश दिए कि समय सीमा के पत्रों को गंभीरता से लें और समय सीमा के पत्रों का निराकरण भी समय सीमा के अंदर हो। निराकरण में किसी भी प्रकार की परेशानी आने पर अपर कलेक्टर एवं उनसे भी परामर्श एवं मार्गदर्शन लें।वही कलेक्टर ने यह भी कहा कि शिकायत शाखा कलेक्ट्रेट की महत्वपूर्ण शाखा है। इस शाखा में कार्य करने वाले कर्मचारी एवं प्रभारी अधिकारी प्राप्त होने वाले आवेदनों को गंभीरता पूर्वक परीक्षण कर तत्परता के साथ निराकरण करें जिससे शिकायत शाखा के प्रति जनमानस में विश्वास बढ़ेगा।

यह भी पढ़े.. MP: पटवारी समेत 3 निलंबित, 11 कर्मचारियों को नोटिस, 4 की वेतन वृद्धि रोकी, 1 पर जुर्माना

दतिया कलेक्टर संजय कुमार ने  आगे कहा कि ऐसे अधिकारी एवं कर्मचारी (Governmet Employees) जिनके द्वारा समय सीमा के प्ररकणों का बेहतर निराकरण किया गया है उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा। कार्य में रूचि न लेने वाले कर्मचारियों को विरूद्व कार्यवाही भी की जाएगी। लंबित प्रकरण होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिए कि शाखा लिपिक आवेदन प्राप्त होने पर ओआईसी नस्ती प्रस्तुत करें। आवेदन लंबित न रखें। कलेक्ट्रेट के कार्यालय अधीक्षक (Datia SP) को भी निर्देश दिए कि वे भी निरंतर शाखाओं में जाकर समय सीमा के लंबित प्रकरणों की जानकारी लेकर निराकरण की कार्यवाही कराएं।