बड़ौन कला में बारिश में कच्ची सड़क बनी मुसीबत, कीचड़ से निकलने पर मजबूर बच्चे और ग्रामीण

दतिया, सत्येन्द्र रावत। दतिया (Datia) जिले की ग्राम पंचायत बरौन कला पुराना खेड़ा सब्दलपुर पर करीब 200 परिवार निवास करते हैं। यहां एक प्राइमरी शासकीय स्कूल भी है जिसमें करीब 50 बच्चे पढ़ते हैं। लेकिन स्कूल तक कच्ची सड़क होने से बरसात के दिनों में यहां पैदल भी आना-जाना मुश्किल हो जाता है। जिससे बच्चे नियमित रूप से स्कूल नहीं जा पाते और उन्हें बहुत मुश्किल का सामना करना पड़ता है। और यही हाल यहां के निवासियों का है।

यह भी पढ़ें…इंदौर जहरीली शराब मामला, अब पुलिस का बयान आया सामने, कही यह बात

बड़ौन कला पुराना खेरा एवं बाबा का डेरा निवासियों ने बताया कि जहां एक ओर हमारे यान मंगल और चांद पर पहुंच गए हैं। तो वहीं दूसरी और बड़ौन कला में किसी के बीमार होने पर या किसी महिला की डिलीवरी होने के समय जब उसे खाट पर रखकर हॉस्पिटल ले जाना पड़ता है और समय पर अस्पताल ना पहुंचने से जब किसी के साथ कोई अप्रिय घटना घट जाती है तो लगता है कि चांद पर जाने से यान बनाने से अच्छा था हमने सड़कें अच्छी बना ली होती। तो शायद हम आज इस देश के ग्रामीण गड्ढे में ना होते।

नरोत्तम मिश्रा की घोषणा के बाद भी नहीं बनी सड़क
हम बरसात में भूल जाते हैं कि हम इंसान हैं। यहां जानवरों जैसा जीवन हो जाता है। हमारा जीवन की गाड़ी थम जाती है आज हम फसलों से निरंतर घाटे में जाते चले जा रहे हैं। पशुपालन से कुछ आय अर्जित होती है पर आवागमन ना होने से वह भी नहीं हो पाती। कुछ और करना चाहे तो बिजली नहीं मिलती। आला अधिकारियों से हम इस बारे में कई बार गुहार लगा चुके हैं यहां तक कि मध्य प्रदेश शासन के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा भी सड़क बनवाने की दो बार घोषणा भी कर चुके हैं पर उसके बावजूद भी अभी तक कोई सड़क यहां पर नहीं बनी। बरसात के तुरंत बाद सड़क निर्माण का काम शुरू करने का आश्वासन दिया गया था और जब फिर से काम को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है । ग्राम पंचायत बडौन कला पुराना खेड़ा सब्दलपुर एवं बाबा का डेरा के ग्रामीणों ने गुहार लगाई है।

यह भी पढ़ें…Panna : हड़ताल में बैठे संयुक्त मोर्चा अजयगढ़ इकाई ने जनपद पंचायत अध्यक्ष को सौंपा ज्ञापन