देर शाम हुआ धरना प्रदर्शन पर निर्णय, जिला अध्यक्ष भाजपा के आश्वासन के बाद उठे आंदोलनकारी

बुधवार की सुबह से ही सैकड़ो की संख्या में लोग अपनी मांगों को लेकर एवं एस. डी. एम सेवढा अनुराग निंगवाल को हटाने की बात पर बुधवार की रात्रि करीब 9 बजे तक बस स्टैंड सेवढा स्थित अम्बेडकर पार्क में बैठे रहे। 

धरना, सेवढ़ा

सेवढ़ा, राहुल ठाकुर। एस. डी. एम. अनुराग निंगवाल (s.d.m. anurag ningwal) के अमानवीय व्यवहार (inhuman behaviour) को लेकर सेवढ़ा  के युवा सोमवार और बुधवार को धरना प्रदर्शन (strike) करने पर बेबस हो गए। सी. एम. राइज स्कूल सेवढ़ा में ही बने परिसर में यह मुद्दा मंगवालर की सुबह से दोपहर तीन बजे तक चला। साथ ही युवाओं के आह्वान (invocation) पर मंगलवार की शाम को व्यापारियों (traders) से बुधवार को बाजार बंद रखने की बात कही। इसी क्रम में बुधवार की सुबह से ही सैकड़ो की संख्या में लोग अपनी मांगों को लेकर एवं एस. डी. एम सेवढा अनुराग निंगवाल को हटाने की बात पर बुधवार की रात्रि करीब 9 बजे तक बस स्टैंड सेवढा स्थित अम्बेडकर पार्क में बैठे रहे।

मांगों को लेकर पांच सदस्यीय टीम आलोक सिंह परिहार, भानुप्रकाश पाठक, अमित शिवहरे, चंद्रेश गुप्ता व अमित पाठक कलेक्टर दतिया से मिली जिसके बाद ये टीम जिलाध्यक्ष भाजपा सुरेंद्र बुधौलिया के निज निवास पर मिलने पहुंची। जहां पर जिलाध्यक्ष दतिया द्वारा गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से चर्चा कर अतिशीघ्र मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया। जब टीम देर शाम करीब 9 बजे बस स्टैंड स्थित धरना स्थल पर पहुंची तब उनके आश्वासन देने पर धरना समाप्त किया गया।

यह भी पढ़ें… बिना मास्क निकले, टोकने पर करने लगे बहस, अधिकारी ने सिखाया सबक, वीडियो वायरल

आपको बता दें कि मंगलवार को चले धरना प्रदर्शन में पूर्व विधायक प्रदीप अग्रवाल व बुधवार को चले धरना प्रदर्शन में वर्तमान विधायक घनश्याम सिंह ने इस आंदोलन में समर्थन प्रदान किया।

सेवढा एस डी एम कार्यशैली को लेकर कलेक्टर के नाम टी आई सेवढा को सौपा ज्ञापन –

एस डी एम सेवढा अनुराग निंगवाल द्वारा मंगलवार को ज्ञापन लेने से मना करने पर युवाओ में आक्रोश था। वहीं बुधवार को टी. आई. सेवढा राजू रजक को कलेक्टर दतिया के नाम पर एस. डी. एम. अनुराग निंगवाल को हटाने की मांग ज्ञापन के माध्यम से की गई। साथ ही यह भी कहा गया कि अगर नियत अवधि में एस. डी. एम. को नहीं हटाया जाता तो सेवढा  एस. डी. एम. के विरोध में पुनः आंदोलन किया जाएगा।