भावुक ग्रामीणों ने बयां की गृहमंत्री की जान पर खेलने की दास्तान

दतिया, डेस्क रिपोर्ट। ग्वालियर-चंबल संभाग (Gwalior-Chambal Division) में पिछले दिनों हुई अति वर्षा और बाढ़ ने लोगों का जन जीवन अस्त व्यस्त कर दिया है। केंद्र और राज्य सरकार प्रभावितों की मदद कर रही है। भारत सरकार केंद्रीय अध्ययन दल भेजकर भी जांच करा रही है। केंद्रीय अध्ययन दल ग्वालियर चंबल संभाग के जिलों के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के निरीक्षण पर आया है। इस दौरान ग्राम कोटरा में ग्रामीणों ने केंद्रीय दल के सदस्यों को बताया कि किस तरह गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अपनी जान पर खेलकर उन लोगों को रेसक्यू करवाया।

Indore : पाकिस्तान से आए 75 शरणार्थियों को मिली भारतीय नागरिकता, सांसद ने किया गरबा

बता दें कि अतिवृष्टि के दौरान दतिया जिले में लोगों के फंसे होने की सूचना मिलने के बाद गृहमंत्री लोगों से मिलने पहुंचे थे। लेकिन नाव पर पेड़ गिर जाने के कारण गृहमंत्री खुद पीड़ितों के साथ ही मौके पर फंस गए। इसके बाद हेलीकॉप्टर से उन्हें रेस्क्यू किया गया। लेकिन वहां भी दरियादिली दिखाते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पहले महिलाओं को, फिर पुरुषों को हेलीकॉप्टर से बाहर रेस्क्यू किया। इसके बाद वे खुद एयर लिफ्ट (airlift) किये गए। केंद्रीय दल जब इलाके में निरीक्षण के लिए पहुंचा तो ग्रामीणों ने उन्हें पूरी घटना की जानकारी दी।