झोलाछाप डॉक्टर ने किया गलत इलाज, 11 माह की बच्ची ने गंवाई जान

पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर मामले की जांच प्रारंभ कर दी है।

दतिया, सत्येंद्र सिंह रावत। मध्यप्रदेश के दतिया (datia) जिले में झोलाछाप डॉक्टरों (fake doctor) का कहर बरकरार है आज ऐसे ही एक डॉक्टर के इलाज से 11 माह की बच्ची ने अपना दम तोड़ दिया घटना दतिया जिले के थाना जिगना क्षेत्र के ग्राम कांवर की है।

यह भी पढ़े…Bhopal: ज्वेलरी शॉप के 7 ताले तोड़ लाखों का सामान ले उड़े चोर, जांच में जुटी पुलिस

आपको बता दें कि ग्राम कांवर में हनुमंत अहिरवार की 11 माह की बच्ची वैष्णवी को मामूली खांसी जुखाम हुआ था। जो इलाज का परामर्श लेने के लिए झोलाछाप डॉक्टर दीपक पुत्र प्रताप परिहार से इलाज कराने गए थे तभी निजी क्लीनिक चलाने वाले दीपक परिहार ने 11 माह की बच्ची को गलत इंजेक्शन लगा दिया बच्ची का दम इंजेक्शन लगते ही टूट गया परिजन आनन-फानन में उसे जिला चिकित्सालय लाए जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़े…एक बार फिर नदी से निकलकर मटामर गांव में घुसा मगरमच्छ, ग्रामीणों ने स्वयं किया रेस्क्यू

गौरतलब है कि यह दतिया जिले में पहला मामला नहीं है 3 दिन पूर्व भांडेर क्षेत्र के ग्राम पंडोखर में भी मुख्य चिकित्सा अधिकार आर बी कुरेले को की सूचना मिली थी उन्होंने कार्रवाई करते हुए दो झोलाछाप डॉक्टरों के क्लीनिक सील किए थे और आरबी कुरेले ने कारवाही की थी लेकिन अब चौथे रोज 11 माह की बच्ची वैष्णवी की मौत हो गई। वैष्णवी मौत के बाद परिजन झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई चाहते हैं। घटना के बाद निजी क्लीनिक चलाने वाला चिकित्सक क्लीनिक पर ताला डालकर फरार बताया गया है पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर मामले की जांच प्रारंभ कर दी है।